ताज़ा खबर
 

कुंभ में हुई योगी कैबिनेट की मीटिंग, प्रयागराज से पश्चिमी यूपी को जोड़ने के लिए गंगा एक्सप्रेसवे पर सहमति

गंगा एक्सप्रेस-वे को बनाने में 6,556 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। ये पूरी तरह से गंगा के किनारे बनाया जाएगा। बताया जा रहा है कि ये दुनिया का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा।

Author Updated: January 29, 2019 2:46 PM
कुंभ में यूपी सीएम योगी की कैबिनेट की बैठक फोटो सोर्स- ट्विटर/कुंभ

उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहली बार लखनऊ से बाहर कैबिनेट बैठक हुई। योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को संगम किनारे प्रयागराज कुंभ में कैबिनेट की बैठक ली और कई बड़े ऐलान कर दिए। योगी ने मेरठ से प्रयागराज तक 600 किमी का गंगा एक्सप्रेस वे बनाने का भी ऐलान किया है। इस दौरान योगी आदित्यनाथ के अलावा यूपी सरकार के दर्जनों मंत्री मौजूद रहे।

क्या होगी एक्सप्रेस-वे की खासियतः प्रयागराज को पश्चिमी उत्तर प्रदेश से जोड़ने वाला यह एक्सप्रेस-वे मेरठ, अमरोहा, बुलंदशहर, बदायूं, शाहजहांपुर, कन्नौज, उन्नाव, रायबरेली और प्रतापगढ़ से गुजरेगा। इस एक्सप्रेस-वे को बनाने में 6,556 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। इसे बनाने में करीब 36 हजार करोड़ की लागत आएगी। ये एक्सप्रेस-वे पूरी तरह से गंगा के किनारे बनाया जाएगा। बताया जा रहा है कि ये एक्सप्रेस-वे दुनिया का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा। 

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे: इसके अलावा बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के भी तेजी से निर्माण का योगी कैबिनेट में फैसला लिया गया। 270 किलोमीटर के इस एक्सप्रेस-वे के लिए लिए करीब 8000 करोड़ रुपये आवंटित किये जायेंगे। इस दौरान सीएम कैबिनेट बैठक के बाद योगी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की अगुवाई में इस बार कुंभ का आयोजन काफी भव्य तौर पर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कुंभ में दुनिया के 70 से अधिक देशों के राष्ट्रध्वज लगे हैं।

बैठक से पहले दर्शन-पूजनः मेला क्षेत्र में बने इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में हुई इस मीटिंग से पहले योगी कैबिनेट के सदस्यों ने संगम में डुबकी भी लगाई। इससे पहले मंत्रियों ने अक्षयवट, सरस्वती कूप और हनुमान मंदिर जाकर दर्शन-पूजन भी किया।

बैठक में नहीं गए ये मंत्रीः इन दिनों बगावती रुख अख्तियार कर चुके योगी सरकार के मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने बैठक से किनारा कर लिया। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी पर हमला बोलते हुए कहा, ‘बैठक में मंत्रियों की कोई बात तो सुनी नहीं जाती है। मुंह दिखाने के लिए बैठक में शामिल होने का कोई मतलब नहीं है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 George Fernandes: एंटी-इमरजेंसी के पोस्टर ब्वॉय, जिन्होंने Coca-Cola तक को बाहर का रास्ता दिखाया था
2 सोशल मीडिया पर राजस्थान पुलिस का रणवीर सिंह को ट्वीट हुआ वायरल, फिल्मी अंदाज में दिया जवाब
3 दिल्ली: बच्ची के अपहरण का आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे, कहा- बेटी का प्यार पाने के लिए करता था अगवा