यूपी भाजपा ने मायावती की तस्वीर छाप किया बेटियों के साथ दरिंदगी का जिक्र, सोशल मीडिया पर लोग देने लगे ऐसे रिएक्शन

यूपी बीजेपी ने ट्विटर हैंडल पर अखबार के एक पेज को ट्वीट करते हुए कहा कि मायावती सरकार में लड़कियों के साथ दरिंदगी होती थी। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोग सरकार को घेरने लगे।

बीएसपी चीफ मायावती। फोटो- एएनआई

उत्तर प्रदेश में जैसे-जैसे चुनाव करीब आ रहा है, राजनीतिक दलों में आरोप प्रत्यारोप बढ़ता जा रहा है। भाजपा के ट्विटर हैंडल से आज एक ट्वीट आया जिसमें प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की तस्वीर छाप कर बेटियों के साथ दरिंदगी का ज़िक्र किया गया है। ट्वीट में लिखा है ‘भूले तो नहीं… बसपा सरकार में बेटियों के साथ हुई दरिंदगी’ और तस्वीर में 21 जून 2011 के अख़बार की एक ख़बर है जिसमें महिलाओं के साथ तत्कालीन मायावती सरकार में हुई ‘दरिंदगी’ की बात की गई थी। इस ट्वीट के आते ही सोशल मीडिया यूज़र्स के रिएक्शन आने लगे।

यूपी भाजपा के हैंडल से मायावती की तस्वीर के साथ ट्वीट आते ही सोशल मीडिया में प्रतिक्रियायों का दौर शुरू हो गया। यूज़र्स ने प्रदेश की हालिया क़ानून व्यवस्था पर दुख व्यक्त करते हुए तीखी टिप्पणियाँ कीं। बता दें कि हाल ही में हुई प्रयागराज की जघन्य घटना पर मायावती ने ट्वीट कर योगी सरकार की क़ानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किए थे, और प्रदेश में हुईं हाथरस, मथुरा जैसी घटनाओं पर भी आक्रोश व्यक्त किया था। भाजपा के इस ट्वीट को मायावती के बयान पर पलटवार के रूप में देखा जा रहा है।

@LAXMINA66711664 नामक एक यूज़र्स ने प्रतिक्रिया में लिखा कि ‘नहीं भूलेंगे’ और अमर उजाला के ही मथुरा ज़िले की इसी 25 नवंबर की ख़बर लगाई जिसमें लिखा है की मथुरा में दुष्कर्म पीड़िता ने खाया ज़हर : निजी अस्पताल में भर्ती, हालत गंभीर, आईजी ने लिया बयान।

वहीं एक दूसरे यूज़र @Somnath1119 ने कहा की भूले तो नहीं। और हाल ही में हुई प्रयागराज की घटना और हाथरस वाली घटना की तस्वीर साझा करते हुए लिखा कि ‘इन्हें शर्म नहीं आती, हाथरस ,प्रयागराज दिखाई नहीं देता है’I इस तरह की प्रतिक्रियाएँ देते हुए यूज़र्स यही कह रहे हैं कि हालिया क़ानून व्यवस्था तो देख नहीं रहें है बस पूर्व की सरकार पर हमला बोल रहें हैं।

एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘न बसपा सरकार का भूले और न “बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ”का नारा देकर आज यू पी में बेटियों को अनाथ करके अपना नारा सार्थक करने वालों को UP की आवाम पीढ़ियों तक नहीं भूल पाएगा, गांव के गरीब परिवारों के शिक्षा मित्रों की बेटियों का क्या हाल है ये नारा देने वाली भाजपा व उसकी सरकारों को पता है।’

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट