ताज़ा खबर
 

कोई घूस मांगे तो घूंसा दो, तब भी न सुने तो जूता दो: बीजेपी विधायक

विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा, 'तहसील की हालत वेश्यालय से भी बदतर हो गई है। मैं विधायक रहूं या न रहूं लेकिन तहसील पर रिश्वतखोर अधिकारियों व कर्मचारियों को नहीं रहने दूंगा।'

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह। फोटो सोर्स- एएनआई

उत्तर प्रदेश के बलिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने लोगों से कहा है कि अगर आपसे कोई घूस मांगे तो उसे घूंसा दो और तब भी ना माने तो जूता दो। बीजेपी विधायक का ये बयान मंगलवार को बलिया में ही एक कार्यक्रम के दौरान आया है। सुरेंद्र सिंह ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों से कहा कि ‘कोई भी कर्मचारी या अधिकारी आपसे रिश्वत मांगता है तो उसकी आवाज को रिकॉर्ड कर लें और मेरे सामने प्रस्तुत करें।’ विधायक यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा, ‘कोई घूस मांगे तो घूंसा दो, तब भी नहीं माने तो जूता दो।’ बता दें कि अभी हाल ही में बीजेपी विधायक के भतीजे पर सरकारी दफ्तर में घुस कानूनगो के साथ मारपीट के आरोप लगे थे। इस मारपीट को लेकर राजस्व कर्मचारियों ने केस भी दर्ज कराया है।

नवभारत टाइम्स के मुताबिक अपने भतीजे पर लगे आरोपों पर सुरेंद्र सिंह ने कहा, ‘तहसील की हालत वेश्यालय से भी बदतर हो गई है। मैं विधायक रहूं या न रहूं लेकिन तहसील पर रिश्वतखोर अधिकारियों व कर्मचारियों को नहीं रहने दूंगा।’ सुरेंद्र सिंह ने साफ कहा कि तहसील में अधिकारी व कर्मचारी मर्यादा भंग करके काम करेंगे तो मर्यादा भंग होगी। विधायक ने यहां तक चेतावनी दे डाली कि अभी तो कार्यकर्ता मर्यादा भंग कर रहे हैं, अगर तब भी रिश्वतखोर नहीं सुधरे तो विधायक होते हुए मैं खुद मर्यादा भंग करूंगा।

बीजेपी विधायक ने कहा, ‘मेरा राजनीतिक जन्म चूड़ी पहनकर नहीं, हथकड़ी पहनकर हुआ है। द्वाबा की जनता के हित व कार्यकर्ताओं के लिए मैं कुछ भी त्याग कर सकता हूं।’ इसके बाद विधायक सुरेन्द्र सिंह ने सम्पूर्ण समाधान दिवस के मौके पर पहुंचकर उपजिलाधिकारी अनिल कुमार चतुर्वेदी, क्षेत्राधिकारी बैरिया उमेश कुमार व तहसीलदार दूधनाथ राम से कहा कि विरासत, खेतों की पैमाइश में 10 हजार से 15 हजार तक रिश्वत ली जा रही है, यह बन्द होना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App