ताज़ा खबर
 

Unnao Rape Case: बलात्कार पीड़िता के पिता को विधायक कुलदीप सेंगर ने फंसाया, 3 पुलिसवाले भी थे शामिल; CBI ने कोर्ट से कहा

Unnao Rape Case: बता दें कि रेप पीड़िता के पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में ही मौत हो गई थी। सीबीआई ने अदालत को बताया कि विधायक कुलदीप सेंगर ने उन्नाव रेप पीड़िता के पिता से मारपीट की और तीन पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर उसे 'हथियार कानून' मामले में फंसा दिया था।

Author दिल्ली | Updated: August 9, 2019 3:33 PM
CBI ने सेंगर पर पीड़िता के आरोपों के बारे में भी अदालत को बताया।

Unnao Case: सीबीआई (CBI) ने दिल्ली की एक अदालत को बताया कि उत्तर प्रदेश के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता के पिता से मारपीट की और राज्य के तीन पुलिस अधिकारियों एवं पांच अन्य के साथ मिलीभगत से उसे ‘हथियार कानून’ मामले में फंसा दिया था। जांच एजेंसी ने जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा को बताया कि विधायक और उसके ‘सहयोगियों’ ने एक प्राथमिकी दर्ज कराई जिसमें 17 वर्षीय बलात्कार पीड़िता के पिता पर देशी पिस्तौल और पांच कारतूस रखने का आरोप लगाया। प्राथमिकी में यह भी आरोप लगाया गया कि पीड़िता के पिता ने विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर और पांच अन्य से गाली गलौच भी की। बता दें कि रेप पीड़िता के पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में ही मौत हो गई थी।

सीबीआई ने कोर्ट में दिया यह तर्क: सीबीआई अधिवक्ता अशोक भारतेंदु ने अदालत को बताया कि तीन पुलिस अधिकारियों जो कि पीड़िता के पिता के साथ मारपीट के आरोपी हैं उनमें माखी के तत्कालीन थाना प्रभारी अशोक सिंह भदौरिया, उप निरीक्षक कामता प्रसाद और कॉन्स्टेबल आमिर खान शामिल हैं। भदौरिया और प्रसाद जहां जमानत पर हैं, आमिर जिसे मामले में गिरफ्तार नहीं किया गया था उसे आज अदालत से गिरफ्तारी से राहत मिली। आरोपी व्यक्तियों ने यद्यपि आरोपों से इनकार किया। इनमें शैलेंद्र सिंह, विनीत मिश्र, बीरेंद्र सिंह, शशि प्रताप सिंह और राम शरण सिंह शामिल हैं। सीबीआई के अनुसार घटना तीन अप्रैल 2018 को पीड़िता के पिता और शशि प्रताप सिंह के बीच कहासुनी के बाद हुई।

National Hindi News, 09 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

क्या हुआ था उस दिन: 13 जुलाई 2018 को दायर आरोपपत्र में कहा गया है कि पीड़िता के पिता और उसके सहयोगी अपने गांव माखी लौट रहे थे। उन्होंने शशि प्रताप से उन्हें गांव तक लिफ्ट देने के लिए कहा। शशि ने उन्हें लिफ्ट देने से मना कर दिया जिससे दोनों के बीच कहासुनी शुरू हो गई।इसके बाद शशि ने अपने सहयोगियों को बुला लिया। इसके बाद विधायक का भाई अतुल सिंह सेंगर अन्य के साथ मौके पर पहुंचा और पीड़िता के पिता और उसके सहयोगी की पिटाई कर दी। पीड़िता के पिता को उनके द्वारा पुलिस थाने ले जाया गया और उनके खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपपत्र में कहा गया है कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर जिला पुलिस अधीक्षक, पुलिस थाना प्रभारी भदौरिया के साथ सम्पर्क में था। बाद में उसने उस चिकित्सक से बात की जिसने पीड़िता के पिता की जांच की।

झूठे केस में फंसाया: सीबीआई ने कहा, ‘‘विधायक (कुलदीप) के पास कारण भी था और विधायक होने के चलते इसका रौब भी था कि वह (पीड़िता के) पिता को अवैध हथियार रखने के मामले में झूठे ही फंसा दे।’’ बलात्कार पीड़िता के पिता की नौ अप्रैल 2018 को न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी। बलात्कार पीड़िता और उसके परिवार के वकील धर्मेंद्र मिश्र और पूनम कौशिक ने अदालत से कहा कि उन्नाव जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्साधिकारी के खिलाफ भी आरोप तय होने चाहिए। अदालत ने मामले को 10 अगस्त को अगली सुनवाई के लिए स्थगित कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 30 साल बाद मुंबई के रिटायर्ड डीसीपी ने खोला हिरासत में हत्या का राज, बताया मामले को कैसे किया रफा-दफा
2 पश्चिम बंगाल: सरकारी स्कूल के एग्जाम में सवाल- जय श्रीराम के नारे से होने वाले दुष्प्रभाव बताएं, कट मनी पर भी क्वेश्चन
3 Bihar News Today 09 August 2019: बिहार पुलिस में बंपर भर्तियां, दरोगा और और सिपाही के पद भरे जाएंगे