ताज़ा खबर
 

EVM हैंकिग पर रविशंकर का पलटवार, कहा- कई सालों से है ईवीएम लेकिन भाजपा की जीत पर ही होती है खराब

आज (मंगलवार) केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ईवीएम (इलेक्टॉनिक वोटिंग मशीन) हैंकिंग विवाद को लेकर कांग्रेस पर पलटवार किया।

रविशंकर प्रसाद, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

आज (मंगलवार) केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ईवीएम (इलेक्टॉनिक वोटिंग मशीन) हैंकिंग विवाद को लेकर कांग्रेस पर पलटवार किया। रविशंकर ने इस पूरे मुद्दो को कांग्रेस द्वारा प्रायोजित बताया। पीसी में रविशंकर ने कहा कि मैंने कबी सैय्यद सुजा का नाम नहीं सुना है।इसके साथ ही कपिल सिब्बल पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि वो वहां क्या कर रहे थे। वो वहां किस हैसियत से मौजूद थे ?

एक के बाद एक किया हमला: रविशंकर ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि विदेश की धरती पर भारत के लोकतंत्र को बदनाम करने के लिए बकवास कर रहे हैं। उन्होंने इस बकवास के लिए गोपी नाथ मुंडे की मौत का सहारा लिया। वे इसे हत्या बता रहे हैं। जबकि डॉक्टर ने कहा था कि ये हत्या नहीं है। दूसरी बात ये कि वो कहते हैं कि सभी चुनावों में गड़बड़ तथा तो राजस्थान , मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में जीत कैसे मिल गई। तीसरी बात ये कि उन्होंने किसी भी बात का कोई सबूत नहीं दिया और न ही पत्रकारों को कुछ पूछने दिया। ऐसे में मैं सवाल करता हूं कि कपिल सिब्बल वहां कर क्या रहे थे। वो वहां किस हैसियत से मौजूद थे। कपिल सिब्बल कांग्रेस की तरफ से मॉनिटरिंग करने गए थे क्या ? कांग्रेस हर मुद्दे पर ऐसे ही करती है। चाहे राम मंदिर हो या फिर महाभियोग।

जब भाजपा जीतते हैं तो खराब होती है ईवीएम: रविशंकर का पलटवार यहीं नहीं थमा और उन्होंने कहा कि इस आयोजन से देश के 90 करोड़ मतदाताओं का अपमान हुआ है। वो कह रहे हैं कि 2014 का चुनाव हैकिंग से जीते लेकिन ईवीएम तो काफी सालों से काम कर रहे हैं। 10 साल यूपीए सत्ता में रही, 2007 में मायावती जीतीं, 2012 में अखिलेश जीते, जब ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल जीते, तब ईवीएम सही था लेकिन जब भाजपा जीतता है तो ईवीएम खराब हो जाती है।

दुनिया हमसे सीखना चाहती हैं: रविशंकर ने कहा कि भारत के लोकतंत्र की चर्चा दुनिया भर में है। भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त को विदेशों में बुलाया जाता है। इतना सब होने के बाद भी जो पार्टी देश में करीब 58 साल शासन कर चुकी है वो ही चुनाव आयोग पर सवाल उठाती है। 2017 में आयोग ने खुली चुनौती दी थई कि कोई भी आकर ये साबित करे कि ईवीएम हैक कर सकते हैं तब सैय्यद सुजा कहां थे ?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App