ताज़ा खबर
 

नई सरकार के लिए दुआ करें- यह अपील करने वाले आर्कबिशप को राजनाथ सिंह-मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने दिया जवाब

दोनों नेताओं की टिप्पणियां दिल्ली के आर्कबिशप की उस चिट्ठी पर आई है, जिसमें काउटो ने राजधानी के सभी पादरियों से अपील करते हुए लिखा था कि देश की धर्मनिरपेक्षता संकट में है। 2019 के चुनावों और भारत के लिए प्रार्थना की जानी चाहिए। आर्कबिशप ने इसी के साथ अन्य पादरियों से इस संबंध में उपवास रखने के लिए भी कहा था।

आर्कबिशप ने दिल्ली के सभी पादरियों को चिट्ठी लिखी थी, जिसमें उन्होंने देश की धर्मनिरपेक्षता को संकट में बताया था। (फोटोः फेसबुक/यूट्यूब)

गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आर्कबिशप अनिल जोसेफ थॉमस काउटो को जवाब दिया है। गृह मंत्री ने कहा है कि भारत अल्पसंख्यों के लिए बेहद सुरक्षित देश है, जबकि नकवी ने नसीहत देते हुए कहा कि आर्कबिशप को दुआ की अपील के बजाय प्रगतिशील सोच रखनी चाहिए।

दोनों नेताओं की टिप्पणियां दिल्ली के आर्कबिशप की उस चिट्ठी पर आई है, जिसमें काउटो ने राजधानी के सभी पादरियों से अपील करते हुए लिखा था कि देश की धर्मनिरपेक्षता संकट में है। 2019 के चुनावों और भारत के लिए प्रार्थना की जानी चाहिए। आर्कबिशप ने इसी के साथ अन्य पादरियों से इस संबंध में उपवास रखने के लिए भी कहा था।

आर्कबिशप की पादरियों को चिट्ठी- 2019 में नई सरकार के लिए मांगें दुआ, रखें उपवास

मंगलवार (22 मई) को गृह मंत्री ने बताया, “मैंने चिट्ठी देखी नहीं है। लेकिन मैं कहना चाहूंगा कि भारत उन देशों में से है, जहां अल्पसंख्यक सुरक्षित हैं। जाति और धर्म के आधार पर यहां किसी को भी भेदभाव नहीं करने दिया जाता है।”

नकवी ने एएनआई से कहा, “प्रधानमंत्री बिना किसी भेदभाव के विकास के एजेंडे पर काम कर रहे हैं। वह इस दौरान धर्म और जाति की बाधाओं को भी पार कर रहे हैं। हम उन्हें केवल सिर्फ इतना कहेंगे कि वह (आर्कबिशप) तरक्की पसंद विचारधारा से चीजों को सोचा-देखा करें।”

उधर, संघ विचारक राकेश सिन्हा ने आर्कबिशप की चिट्ठी को लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता पर किया गया हमला बताया। सिन्हा के अनुसार, “यह वेटिकन हस्तक्षेप है। पोप ही इन बिशपों को नियुक्त करते हैं। ये भारत के बजाय पोप के प्रति जवाबदेह हैं।”

गिरिराज सिंह का कहना है, “हर क्रिया की प्रतिक्रिया होती है। मैं ऐसा कदम नहीं उठाऊंगा, जिससे सांप्रदायिक सद्भावना प्रभावित हो। मगर गिरजाघर लोगों से अगर गुजारिश करे कि आगामी चुनाव में मोदी सरकार न बने, तो इस पर मैं कहूंगा कि देश में अन्य धर्म के लोग भी हैं, जो कीर्तन करते हैं।”

वहीं, बीजेपी की नेता शाइना एनसी ने इस चिट्ठी पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि पीएम विकास के एजेंडे पर बिना किसी पक्षपात के काम कर रहे हैं।

हालांकि, आर्कबिशप सचिव फादर रॉबिंसन रॉड्रिग्स ने कहा कि हर चुनाव से पहले प्रार्थना की जाती है। मगर इस बार प्रार्थनाओं को लेकर सियासत की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App