ताज़ा खबर
 

हज सब्सिडी खत्म फिर भी इतिहास में सबसे ज्यादा भारतीय जाएंगे हज, केंद्रीय मंत्री ने बताई वजह

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सब्सिडी खत्म होने के बाद भी हज यात्रियों पर गैर जरुरी बोझ नहीं पड़ा। उन्होंने कहा कि हज यात्रियों की सुरक्षा एवं बेहतर सुविधा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने प्रभावी कदम उठाए हैं।

Author नई दिल्ली | June 25, 2019 3:21 PM
केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार (25 जून) को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने हज सब्सिडी के ‘छल’ को ‘ईमानदारी के बल’ से खत्म किया है। हज कोऑर्डिनेटर, हज असिस्टेंट आदि के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन करने के दौरान नकवी ने कहा कि हमारी ईमानदार-पारदर्शी व्यवस्था का नतीजा है कि सब्सिडी खत्म होने के बाद भी हज यात्रियों पर गैर जरुरी बोझ नहीं पड़ने पाया और देश के इतिहास में सबसे ज्यादा भारतीय मुसलमान इस साल हज यात्रा पर जाएंगे।

बिना सब्सिडी हज पर जाएंगे मुसलमानः नकवी ने कहा कि हज यात्रियों की सुरक्षा एवं बेहतर सुविधा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने प्रभावी कदम उठाए हैं और इस विषय पर कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मंत्री ने कहा कि हज 2019 पर जाने वाले हज यात्रियों की सहायता के लिए 620 हज कोऑर्डिनेटर, असिस्टेंट हज अफसर, हज असिस्टेंट, डॉक्टर, पैरामैडिक आदि की सऊदी अरब में नियुक्ति की गई है जिसमे बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं। नकवी ने कहा कि देश भर के 21 हवाई अड्डों से 500 से ज्यादा उड़ानों के जरिए रिकॉर्ड दो लाख भारतीय मुसलमान बिना किसी सब्सिडी के इस साल हज पर जाएंगे।

National Hindi News, 25 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

 हज पर जाने वाली महिलाओं की संख्या होगी दोगुनीः इन हज यात्रियों में एक लाख 40 हजार हज यात्री भारतीय हज कमेटी और 60 हजार हज यात्री ‘हज ग्रुप ऑर्गेनाइजर’ (एचजीओ) के जरिए हज पर जाएंगे। हज समूह आयोजकों को भी 10 हजार हज यात्रियों को हज कमिटी ऑफ इंडिया के निर्धारित पैकेज पर ही ले जाना होगा।मंत्री ने कहा कि इस साल बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के हज यात्रा पर जाने वाली महिलाओं की संख्या पिछले साल के मुकाबले दोगुनी होगी। इस वर्ष 2340 महिलाएं बिना मेहरम के हज पर जा रही हैं जबकि पिछले वर्ष यह संख्या 1180 थी। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब द्वारा भारत का हज कोटा दो लाख किए जाने का नतीजा है कि आजादी के बाद पहली बार उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, बिहार सहित देश के सभी बड़े प्रमुख राज्यों से सभी हज आवेदक हज 2019 पर जा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App