ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान नहीं सुधरा तो रमजान में सीजफायर तोड़ सिखा देंगे सबक: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने शनिवार (2 जून) को कहा कि अगर पाकिस्तान सीमा पार से गोलीबारी और आतंकवाद में शामिल होना जारी रखता है तो पिछले महीने घोषित रमजान संघर्ष विराम को रद्द करने के लिए सरकार मजबूर होगी।

केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर। (File Photo)

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने शनिवार (2 जून) को कहा कि अगर पाकिस्तान सीमा पार से गोलीबारी और आतंकवाद में शामिल होना जारी रखता है तो पिछले महीने घोषित रमजान संघर्ष विराम को रद्द करने के लिए सरकार मजबूर होगी। हंसराज अहीर ने कहा कि हमने रमजान को देखते हुए सीजफायर का फैसला लिया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से सीमा पार आतंकवाद और युद्धविराम के उल्लंघन में कोई राहत नहीं है। महाराष्ट्र के यवतमाल में एक सरकारी गेस्ट हाउस में संवाददाताओं से बात करते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा कि हम युद्धविराम समझौते को रद्द करने के लिए बाध्य होंगे। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि संघर्षविराम के समझैते में भारत के पास यह प्रावधान भी है कि अगर पाकिस्तान बिना उकसावे के गोलीबारी शुरू करता है तो उसको सबक सिखाया जाएगा। हंसराज अहीर ने कहा कि पहले से हमला न करने की नीति में भारत अब भी भरोसा करता है।

बता दें कि बीते मंगलवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के चार वर्षो की रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए यह साफ किया था कि जम्मू-कश्मीर में सरकार की तरफ से किसी तरह के सीजफायर की घोषणा नहीं की गई, बल्कि रमजान के पवित्र महीने को देखते हुए केवल ‘सस्पेंशन ऑफ ऑपरेशन’ किया गया था। वह लखनऊ स्थित लोकभवन में मोदी सरकार की उपलब्धियों को गिना रहे थे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था, “सरकार की तरफ से सस्पेंशन ऑफ ऑपरेशन किया गया था, सीजफायर नहीं। आतंकवादी घटना होने पर सेना के हाथ नहीं बंधे हैं। जरूरत पड़ने पर हर आतंकवादी हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।”

राजनाथ सिंह ने कहा था कि देश की सीमाओं को सुरक्षित रखने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से कॉम्प्रीहेंसिव बॉर्डर सिक्योरिटी सिस्टम (व्यापक सीमा सुरक्षा प्रणाली) की शुरुआत की जा रही है। इसके तहत देश की सीमाओं पर नई तकनीक के रडार लगाए जाएंगे। सीमा पर फ्लड लाइटस का भी इस्तेमाल किया जाएगा, जिससे आतंकवादी अंधेरे का लाभ उठाकर देश की सीमा में न घुस सकें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App