ताज़ा खबर
 

गैंगस्टर अबू सलेम ने सीएम आदित्यनाथ को लिखा लेटर, कहा- हड़प ली गई जमीन, कीजिए मदद

पत्र में सलेम ने लिखा है कि गांव में उसकी 160 हेक्टेयर जमीन है जो उसके और उसके भाइयों के नाम पर थी, लेकिन नंवबर 2017 को परिवार के लोगों ने खतौनी की नकल ली तो पता चला जमीन कुछ दूसरे लोगों के नाम हो चुकी है।

अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम।

गैंगनस्टर और मुंबई बम धमाकों (1993) में दोषी साबित हो चुके अबू सलेम ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्य नाथ सरकार को एक पत्र लिखा है। पत्र में उसने दबंगों द्वारा अपनी पुश्तैनी जमीन कब्जा कर लिए जाने पर प्रदेश सरकार से मदद मांगी है। पत्र में सलेम ने लिखा है कि गांव में उसकी 160 हेक्टेयर जमीन है। यह जमीन उसके और उसके भाइयों के नाम पर थी, लेकिन नंवबर 2017 को परिवार के लोगों ने खतौनी की नकल ली तो पता चला जमीन कुछ दूसरे लोगों के नाम हो चुकी है। इनके नाम मोहम्मद हफीज, मोहम्मद शौकत, सरवरी, मोहिउद्दीन, अखलाक, अखलाख खां और नदीम अख्तर बताए गए हैं। अबू सलेम ने इन सभी लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाए जाने की मांग की है।

इस मामले में अबू सलेम के वकील राजेश सिंह ने बताया कि उसने मुंबई की सेंट्रल जेल से यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ, आजमगढ़ के जिला अधिकारी चंद्रभूषण सिंह और एसपी के साथ थानाध्यक्ष सरायमीर को डाक के जरिए पत्र भेजा है। सिंह का कहना है कि मामले में स्थानीय सरकार कोई कार्रवाई नहीं करती है तो धारा 156 के तहत आरोपियों के खिलाफ अदालत में मुकदमा किया जाएगा। वहीं, स्थानीय खबरों के अनुसार सलेम की कथित जमीन पर मॉल का निर्माण चल रहा है। दूसरे पक्ष का कहना है कि जमीन को उन्होंने साल 2002 में बैनाम बेश से खरीदा है।

बता दें कि अबू सलेम सरायमीर कस्बा के पठान टोला मोहल्ला का मूल निवासी है। साल 1993 में हुए मुंबई धमाकों के बाद वह पुर्तगाल भाग गया था। साल 2002 में उसकी गिरफ्तारी के बाद उसे प्रत्यपर्ण के जरिए भारत लाया गया है। हालांकि, पुर्तगाल ने उसे भारत सरकार को इस शर्त पर सौंपा है कि उसे किसी भी अपराध में फांसी नहीं दी जाएगी। सलेम अभी जेल में बंद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App