ताज़ा खबर
 

गुजरातः अस्पताल में सो गए कैदी को दिखाने आए पुलिसकर्मी, हत्या समेत 14 आपराधिक मामलों का कुख्यात आरोपी फरार

गुजरात पुलिस का कहना है कि राजकोट के रहने वाले गैंगस्टर निखिल डोंगा पर हत्या, हत्या की कोशिश, उगाही और अपहरण के 14 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र अहमदाबाद | Updated: March 31, 2021 7:29 PM
Representational Photo, Jail, Prisonerप्रतीकात्मक तस्वीर।

गुजरात में पुलिस की लापरवाही से एक कुख्यात कैदी के फरार होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। गुजरात कंट्रोल ऑफ टेररिज्म एंड ऑर्गनाइज्ड क्राइम (GUJCTOC) ऐक्ट के तहत पुलिस की गिरफ्त में रखा गया निखिल डोंगा नाम का एक अपराधी कच्छ के भुज स्थित अस्पताल से बिना पुलिस को भनक लगे ही गायब हो गया। बताया गया है कि जब डोंगा भागा तब ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी सो रहे थे। अब विभाग ने आनन-फानन में लापरवाही के लिए दो पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया है, जबकि डोंगा को पकड़ने के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू किया है।

पुलिस का कहना है कि राजकोट के रहने वाले गैंगस्टर निखिल डोंगा पर हत्या, हत्या की कोशिश, उगाही और अपहरण के 14 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। उस पर आतंकियों और संगठित अपराधियों को रोकने के लिए बनाए गए GUJCTOC कानून के तहत भी मामला दर्ज है। अधिकारियों के मुताबिक, डोंगा कच्छ भुज पुलिस की पलारा जेल में बंद था। वह उन चार कैदियों में शामिल था, जिन्हें कैंसर के लिए इलाज के लिए 26 मार्च को जीके जनरल अस्पताल ले जाया गया।

डोंगा को हॉस्पिटल के पुलिस कैदी वॉर्ड में भर्ती कराया गया था। यहां से सोमवार को वह पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। इस बीच कच्छ भुज पुलिस ने एक सब इंस्पेक्टर और एक लोक रक्षक दल के जवान को गिरफ्तार किया है। सोमवार को इन्हीं दोनों लोगों की अस्पताल में डोंगा की निगरानी के लिए ड्यूटी लगी थी।

पुलिस ने बताया कि डोंगा राजकोट में एक उगाही का नेटवर्क चलाता है। पिछले साल नवंबर में उसे और उसके गैंग के 11 लोगों को GUJCTOC ऐक्ट में गिरफ्तार किया गया था। जानकारी के मुताबिक, डोंगा के फरार होने की बात पुलिस को सोमवार को सुबह 5.11 बजे पता चली। इसके बाद सीसीटीवी कैमरा फुटेज को खंगालने पर सामने आया कि डोंगा अस्पताल से रविवार देर रात 1.18 बजे ही निकल गया। उसके साथ में एक व्यक्ति और था।

अस्पताल के बाहर लगे सीसीटीवी में एक व्यक्ति पार्किंग में लगी कार में डोंगा को बिठाकर जाता हुआ भी दिख रहा है। कच्छ भुज पुलिस का कहना है कि उन्होंने जिले को सील कर दिया है और डोंगा को ढूंढने के लिए टीमों का गठन भी हो चुका है। राजकोट ग्रमीण के एसपी को भी इस केस में शामिल किया गया है।

Next Stories
1 बंगाल चुनावः लीक ऑडियो पर बोलीं ममता बनर्जी, हां की थी भाजपा नेता से बात, कोई गुनाह नहीं किया
2 बंगालः प्रशांत किशोर की कंपनी के सर्वे में भाजपा की जीत का दावा? टीएमसी बोली- फ्रॉड है
3 बूथ प्रबंधन से साध रहे कई राजनीतिक दल चुनावी गणित
ये पढ़ा क्या?
X