ताज़ा खबर
 

8 साल की उम्र में अटल बिहारी से पहली बार मिली थीं उमा भारती, वाजपेयी को सौरी न कह पाने से अब हैं दुखी

भोपाल में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की श्रद्धांजलि सभा में केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने मंगलवार (21/08/2019) दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वह वाजपेयी को कभी ‘सॉरी’ नहीं कह पायी।

Author भोपाल | August 22, 2018 2:11 PM
जानिए अटल जी को क्यौं सौरी कहना चाहती थीं उमार भारती

भोपाल में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की श्रद्धांजलि सभा में केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने मंगलवार (21/08/2019) दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वह वाजपेयी को कभी ‘सॉरी’ नहीं कह पायी। स्थानीय मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए उमा ने कहा, ‘‘वह (वाजपेयी) बहुत विनोदी स्वाभाव के थे। वह विनोद में ही बोलते थे तो मैं उनकी बात पर तुनक जाती थी। मैंने हमेशा उनसे कोई ऐसी बात कह दी जो उन्हें चुभती होगी। मैंने उनको कभी सॉरी नहीं कहा, जिसका मुझे बहुत दु:ख रहेगा।’’ वाजपेयी के साथ अपने लंबे साथ को याद करते हुए उन्होंने कहा कि जब मैं आठ साल की थी, तब मैं पहली बार वाजपेयी से मिली थी। तब मैं भाजपा की दिवंगत नेता विजयाराजे सिंधिया द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में ग्वालियर प्रवचन देने गई थी।

वाजपेयी को याद करते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवरा सिंह चौहान ने कहा, ‘‘मुझे अभी भी भरोसा नहीं होता कि अटलजी नहीं हैं। लगता है वे अभी आएंगे, अपने चिर परिचित अंदाज में, मुस्कुराते हुए।’’ चौहान ने कहा, ‘‘वह एक राजनेता, लेखक, पत्रकार, कुशल वक्ता, कवि, पत्रकार, साहित्यकार, समाजसेवी और सबसे बढ़कर सबको प्यार करने वाले अटलजी भारत के मुकुटमणि थे।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Ice Blue)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • jivi energy E12 8GB (black)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹280 Cashback

मुख्यमंत्री ने वाजपेयी के साथ बिताए लम्हों को याद करते हुए कहा कि मैंने देशभक्ति का पाठ उन्हीं से सीखा। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा, ‘‘करोड़ों दिलों में जिन अटलजी ने अपना स्थान बनाया था, आज वे हमारे बीच मौजूद नहीं हैं। अटलजी की विलक्षणता को पहचानकर दिवंगत पंडित जवाहरलाल नेहरू ने उनके प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App