ताज़ा खबर
 

हरिद्वार में उमा भारती के खिलाफ बढ़ रहा रोष, गंगा मइया से वादाखिलाफी का आरोप

उमा भारती के खिलाफ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एक विशाल प्रदर्शन किया और उमा भारती को गंगा के तट पर किए गए वादे की याद दिलाई और कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के मुखिया और उनके मंत्री अब गंगा मइया से भी झूठे वादे करने लगे हैं।

Author हरिद्वार | February 19, 2016 7:19 PM
कांग्रेसी नेता मनोज खन्ना कहते हैं कि उमा भारती जैसी संन्यासिनी को तो कम से कम झूठे वादे से गंगा मइया को नहीं छलना चाहिए। (फाइल फोटो)

तीर्थनगरी हरिद्वार में केंद्रीय मंत्री उमा भारती के खिलाफ जनाक्रोश बढ़ता जा रहा है। उमा भारती ने पौने दो साल पहले केंद्र में मंत्री बनने के बाद हरिद्वार में यह एलान किया था कि हरिद्वार में अर्द्धकुंभ से पहले-पहले गंगा बिल्कुल स्वच्छ कर दी जाएगी। हरिद्वार में अर्द्धकुंभ मेला में आने वाले तीर्थयात्री गंगा के स्वच्छ जल में स्नान करेंगे। लेकिन अर्द्धकुंभ मेला के तीन स्नान पर्व सम्पन्न हो चुके हैं। परंतु उमा भारती अभी तक हरिद्वार में गंगाजल को स्वच्छ करने के लिए एक भी कदम नहीं उठा सकी है। उनकी घोषणा हवा हवाई साबित हो रही है। अब तो वे हरिद्वार आने से भी कतरा रही हैं।

उमा भारती के खिलाफ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एक विशाल प्रदर्शन किया और उमा भारती को गंगा के तट पर किए गए वादे की याद दिलाई और कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के मुखिया और उनके मंत्री अब गंगा मइया से भी झूठे वादे करने लगे हैं। जनता से तो झूठे वादे करके वे केंद्र में सत्ता में आए थे। मंडी समिति हरिद्वार के चेयरमैन और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता संजय चौपड़ा के नेतृत्व में हरिद्वार में गंगा तट पर एक विशाल प्रदर्शन का आयोजन किया गया। कांग्रेसियों ने नारा दिया ‘उमा भारती होश में आओ-गंगा से किया गया वादा निभाओ’। ‘झूठे वादों वाली झूठी मोदी सरकार के झूठे मंत्री होश में आओ’ कांग्रेसियों ने नरेंद्र मोदी सरकार व उमा भारती का पुतला भी फूंका। उमा भारती पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते हुए कांग्रेसी नेता संजय चौपड़ा ने कहा कि उमा भारती पौने दो साल पहले गंगा तट पर गंगा मइया से यह वादा करके गई थी कि अर्द्धकुंभ से पहले हरिद्वार में गंगा स्वच्छ कर दी जाएगी। परंतु उमा भारती ने इंसानों की बात छोडो गंगा मइया से भी किया गया वादा पूरा नहीं किया। और अब उमा भारती ने हरिद्वार भी आना छोड़ दिया है, ताकि हरिद्वार तीर्थनगरी की धार्मिक जनता उनसे यह सवाल न पूछ ले कि गंगा मइया के जल को स्वच्छ करने का उनके वादे का क्या हुआ।

समाजसेवी रामकृष्ण गोयल का कहना है कि आज हरिद्वार में गंगा में लगातार गंदे नाले गिर रहे हैं। और गंगा में गिर रहे गंदे नालों को रोकने के लिए केंद्र सरकार के नमामि गंगे मंत्रालय ने कोई कदम नहीं उठाया है। जगजीतपुर गांव में लगा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से सीवरेज का गंदा पानी लगातार गंगा में सीधे गिर रहा है और किसी को सुध नहीं है।

सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु बहुगुणा का कहना है कि उमा भारती से उम्मीद थी कि वे सन्यासी होने के कारण गंगा से किया गया वादा निभाएगी। परंतु वे भी अन्य नेताओं की तरह ही निकली। जबकि यूपीए की सरकार के वक्त उमा भारती ने गंगा के प्रदूषण का मामला तीर्थनगरी हरिद्वार में जोर-शोर से उठाया था। और गंगा के गंगत्व को बचाने के लिए उन्होंने आमरण अनशन भी दिव्य प्रेम मिशन के गंगातट पर बने परिसर में किया था। अब मंत्री बनते ही उमा भारती गंगा और गंगा वासियों दोनों को ही भूल गई है। और न ही उन्हें हरिद्वार में अर्द्धकुंभ से पहले गंगा को स्वच्छ करने का वादा याद रहा है। हरिद्वार में अर्द्धकुंभ मेला शुरू हुए डेढ़ महीने से ज्यादा हो गए हैं और अर्द्धकुंभ के तीन स्नान भी संपन्न हो गए हैं। परंतु उमा भारती को अपने वचन याद नहीं आए हैं।

अर्द्धकुंभ मेला से पहले गंगा कैसे स्वच्छ हो? इस बारे में उमा भारती ने हरिद्वार आकर किसी से कोई राय-मशिवरा भी नहीं किया। गंगा को उसके हाल पर ही छोड़ दिया। हरिद्वार में रामकथा का आयोजन कराते वक्त उमा भारती की इस घोषणा से हरिद्वार वाले बहुत खुश थे कि गंगा अर्द्धकुंभ से पहले हरिद्वार में स्वच्छ हो जाएगी। धर्मकर्म से जुड़े पंडित मनोज त्रिपाठी कहते हैं कि उमा भारती ने हरिद्वारवासी गंगापुत्रों को ही नहीं बल्कि गंगा मइया को भी छला है। अब संन्यासी मंत्री के वादे से गंगावासी अपने को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। कांग्रेसी नेता मनोज खन्ना कहते हैं कि उमा भारती जैसी संन्यासिनी को तो कम से कम झूठे वादे से गंगा मइया को नहीं छलना चाहिए। उन्होंने कहा कि उमा भारती को ‘मिशन गंगा’ कार्यक्रम अब तक तो बिल्कुल नाकाम साबित हुआ है। जिससे उमा भारती को हरिद्वार में आकर गंगा में डुबकी लगाकर गंगा मइया से किए गए अपने वादे को पूरा न करने पर क्षमा मांगनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App