उज्जैन विवाद: दिग्विजय बोले- ‘काजी साहब जिंदाबाद’ का नारा लगा, HM नरोत्तम मिश्रा ने किया पलटवार

उज्जैन में कथित दौर पर देश विरोधी नारे लगाने के आरोपों पर दिग्विजय सिंह ने कहा है कि यह काजी साहब जिंदाबाद है ना कि पाकिस्तान जिंदाबाद।

narottam mishra and digvijay singh
दिग्विजय सिंह और नरोत्तम मिश्रा (फोटो- फाइल फोटो)

उज्जैन में कथित दौर में देश विरोधी नारे को लेकर मध्यप्रदेश में सरकार और विपक्ष लगातार एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। इस मामले में पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कांग्रेस पर हमला बोला था, जिसके बाद अब कांग्रेस की ओर से पलटवार हो रहा है।

उज्जैन के जीवाजीगंज थाना क्षेत्र में लोग पर्व मनाने के लिए इकट्ठा हुए थे। जहां पर कुछ असमाजिक तत्वों ने कथित रूप से देश विरोधी नारे लगाए। यहां तालिबान जिंदाबाद का भी नारा लगाया गया। इस घटना का वीडियो तुरंत सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 10 लोगों को गिरफ्तार किया था।

इस मामले में एडिटेड वीडियो के भी वायरल होने की खबर है। जिसपर उज्जैन पुलिस ने चेतावनी भी जारी है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश के उज्जैन में हाल ही में जिन लोगों के खिलाफ कथित तौर पर भड़काऊ नारेबाजी के कारण राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत मामला दर्ज किया गया है, दरअसल ये लोग ‘‘काजी साहब जिंदाबाद’’ के नारे लगा रहे थे न कि ‘‘पाकिस्तान जिंदाबाद’’ के नारे।


राज्यसभा सांसद ने रविवार रात को एक ट्वीट में कहा, ‘‘फेक न्यूज के आधार पर ‘‘काजी साहब जिंदाबाद’’ को ‘‘पाकिस्तान जिंदाबाद’’ बता कर कई लोगों पर मुकदमे दायर हो गए। मध्य प्रदेश पुलिस को कार्रवाई करने के पूर्व वास्तविकता का पता लगा लेना चाहिए था। यदि गिरफ्तारी हुई है तो प्रकरण वापस लेना चाहिए।’’


मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार करते हुए ट्वीट किया, ‘‘दिग्विजय सिंह अपनी तुष्टिकरण की सियासत के लिए देश विरोधी लोगों के पक्ष में खड़े होते आए हैं। उनको ऐसे लोगों का नेतृत्व कर पाकिस्तान ले जाना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में तालिबानी सोच व राष्ट्र विरोधी मानसिकता वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उज्जैन मामले की नए सिरे से जांच नहीं होगी।

इस घटना के बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि दिग्विजय सिंह जैसे लोग आतंकवादियों को सम्मान देते हैं और सर्जिकल स्ट्राईक पर भारतीय सेना से सवाल करते हैं। असल में ये तालिबानी मानसिकता का ही परिचायक है। मध्यप्रदेश की धरती पर तालिबान का समर्थन करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा, सब जेल की हवा खाएंगे।


उज्जैन की गीता कॉलोनी में मुहर्रम के एक कार्यक्रम के दौरान 19 अगस्त को पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने के आरोप में चार लोगों के खिलाफ रासुका लगाया गया है। पुलिस ने रविवार को बताया कि ऐसे नारे लगाने वाले 16 लोगों की पहचान की गई है और अन्य लोगों की पहचान के प्रयास जारी हैं।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट