ताज़ा खबर
 

भाजपा पर बरसे उद्धव ठाकरे, बोले- गुजरात दंगों के बाद हमने मोदी का साथ दिया लेकिन उन्‍होंने वो समर्थक गंवा दिया

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि आगामी चुनावी लड़ाई ‘‘दोस्ताना मुकाबला’’ नहीं होगा।

Author मुंबई | February 5, 2017 7:40 AM
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि आगामी चुनावी लड़ाई ‘‘दोस्ताना मुकाबला’’ नहीं होगा। (Photo:PTI)

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि आगामी चुनावी लड़ाई ‘‘दोस्ताना मुकाबला’’ नहीं होगा। भाजपा ने एक ऐसा ‘‘कट्टर समर्थक’’ खो दिया है जिसने गुजरात दंगों के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन किया था। उन्होंने मुंबई में अपनी पहली बीएमसी चुनावी रैली में कहा, ‘‘भाजपा अध्यक्ष ने कहा है कि यह एक दोस्ताना मुकाबला है जबकि राज्य के नेताओं ने इसे ‘‘कौरवों’’ और ‘‘पांडवों’’ के बीच का ‘महाभारत’ बताया है। मैं अमित शाह से कहना चाहता हूं कि अब यह दोस्ताना मुकाबला नहीं है। आपने अपना एक ऐसा कट्टर समर्थक खो दिया है जिसने हमेशा आपका समर्थन किया है। उस समर्थक ने गुजरात दंगों के बाद मोदी का भी समर्थन किया था जबकि उस समय हर कोई उनके खिलाफ था।’’

अमित शाह ने पिछले रविवार को कहा था कि शिवसेना के साथ कोई मतभेद नहीं है और उन्होंने उम्मीद जताई थी कि महाराष्ट्र निकाय चुनावों को स्वतंत्र रूप से लड़ने का इसका फैसला गठबंधन को नुकसान नहीं पहुंचाएगा। गौरतलब है कि शिवसेना और भाजपा के बीच सीटों के बंटवारे के चलते बीएमसी चुनावों के लिए गठबंधन टूट गया था। हालांकि राज्‍य और केंद्र सरकार में वह एनडीए में शामिल है। रोचक बात है कि महाराष्‍ट्र में विधानसभा चुनावों से पहले भी भाजपा और शिवसेना अलग हो गए थे। साथ ही अलग-अलग चुनाव लड़ा था। चुनाव नतीजे आने के बाद शिवसेना ने भाजपा का साथ दिया था।

केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से भाजपा और शिवसेना के बीच कई मुद्दों पर तनातनी रही है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए कई बार मोदी सरकार पर करारे हमले बोले हैं। उसने राम मंदिर, पाकिस्‍तान से रिश्‍तों सहित कई मसलों पर भाजपा को निशाना बनाया है। पिछले दिनों महाराष्‍ट्र में मंदिरों कों हटाने के मुद्दे पर तो शिवसेना ने देवेंद्र फड़णवीस सरकार को मुगलों की सरकार तक बता दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App