ताज़ा खबर
 

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केसः साढ़े सात साल रहे जेल में रहे उदयपुर के पुलिस अधिकारियों ने रिहाई के बाद मनाया जश्न

13 साल पुराने गुजरात के चर्चित एनकाउंटर मामले में हत्या के आरोपी रहे पुलिस अधिकारियों ने रिहाई के बाद जमकर जश्न मनाया।

सोहराबुद्दीन शेख (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

गुजरात के बहुचर्चित सोहराबुद्दीन, तुलसीराम प्रजापति और कौसर बी एनकाउंटर केस में मिली रिहाई के बाद उदयपुर के छह पुलिस अधिकारियों ने जमकर जश्न मनाया। मुंबई की सीबीआई अदालत ने इन सभी को 21 दिसंबर 2018 को 13 साल बाद राहत दी है। उदयपुर के रानी रोड स्थित इंद्रलोक गार्डन में हुए इस कार्यक्रम में आईजी इंटेलिजेंस और उदयपुर के पुलिस अधीक्षक रह चुके दिनेश एमएन ने भी शिरकत की।

जेल में काटे साढ़े सात साल

फर्जी एनकाउंटर में हत्या करने के आरोपी रहे इन पुलिस अधिकारियों को साढ़े सात साल तक जेल में रखा गया था। इस मामले में गुजरात की तत्कालीन भाजपा सरकार के कुछ मंत्रियों पर भी आरोप लगे थे लेकिन बाद में वे बरी हो गए। इस केस में बरी हुए इन अधिकारियों में दिनेश एमएन, सीआई अब्दुल रहमान, एसआई हिमांशु, श्याम सिंह और एएसआई नारायण सिंह शामिल थे।

सीबीआई जज ने खारिज की जांच रिपोर्ट

इस मामले की सुनवाई करते हुए सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसजे शर्मा ने कहा, ‘पूरी जांच एक किसी तरह राजनेताओं को फंसाने के क्रम में गढ़ी गई कहानी पर केंद्रित थी। सीबीआई ने किसी तरह साक्ष्य तैयार किया और आरोप पत्र में गवाहों का बयान आपराधिक दंड प्रक्रिया की धारा 161 या धारा 164 के तहत दर्ज किया गया झूठा बयान पेश किया। स्पष्ट है कि सीबीआई सच का पता लगाने से कहीं ज्यादा पहले से गढ़ी गई कहानी को सही ठहराने की कोशिश में जुटी थी।’ पिछले सप्ताह 13 साल पुराने हाई प्रोफाइल मुकदमे में आए फैसले में मामले में सभी 22 आरोपियों को बरी कर दिया गया, जिनमें गुजरात, राजस्थान और आंध्रप्रदेश के 21 पुलिसकर्मी शामिल हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App