scorecardresearch

Udaipur Murder Case: कन्हैयालाल की हत्या कर 2611 नंबर वाली बाइक से भागे थे हमलावर, मुंबई हमले से है कनेक्शन!

राजस्थान के उदयपुर में नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट की वजह से कन्हैया लाल नाम के एक टेलर की आरोपियों ने गला काटकर हत्या कर दी थी। हत्यारों ने हत्या का वीडियो रिकॉर्ड किया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी धमकी दी थी।

Udaipur Murder Case,उदयपुर हत्या, Rajasthan Udaipur Murder Case
PFI: उदयपुर हत्या,Udaipur Murder Case Photo Credit- @AskAnshul)

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार (28 जून 2022) को नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने की वजह से कन्हैया लाल नाम के एक टेलर की हत्या कर दी गयी थी। अब इस हत्याकांड का 26/11 से कनेक्शन सामने आया है। दरअसल, हमलावर कन्हैयालाल की हत्या कर 2611 नंबर वाली बाइक से भागे थे।

उदयपुर की मालदास स्ट्रीट में टेलर कन्हैयालाल की जघन्य हत्या के बाद आरोपी रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद जिस बाइक पर भाग रहे थे, उसका नंबर 2611 था। इतना ही नहीं किश्तों में ली गयी इस बाइक के लिए यह खास नंबर लेने के लिए RTO को 5000 रुपए एक्स्ट्रा फीस दी थी। पुलिस की टीम बाइक की खरीद और खास नंबर लेने की डिटेल निकाल रही है।

मुंबई हमले की याद में नंबर: 26 नवंबर 2011 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले को याद रखने के लिए आरोपी रियाज ने खास नंबर लिए थे। ये बाइक साल 2013 में खरीदी गई थी। RJ 27 AS 2611 नंबर प्लेट की इस बाइक से रियाज को काफी लगाव था इसलिए मर्डर करने के लिए भी इसी बाइक से गौस के साथ आया था। इसके बाद इसी बाइक से दोनों फरार हुए थे। हालांकि पुलिस ने अब बाइक को जब्त कर लिया है, लेकिन जांच एजेंसियां इस नंबर के पीछे की कहानी और फैक्ट जुटाने में लगी है।

आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत: भीम पुलिस थाने के एसएचओ ने कहा कि बाइक को आगे की कार्रवाई के लिए एसआईटी को सौंप दिया गया है। कन्हैयालाल की हत्या कर बाइक पर भाग रहे रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद को राजसमंद के भीम में नाकेबंदी कर पकड़ा गया था। फिलहाल कोर्ट ने दोनों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में अजमेर हाई सिक्योरिटी जेल में भेज दिया है।

26/11 मुंबई अटैक: मुंबई में 26 नवंबर, 2008 को हुए आतंकवादी हमले को सामान्य तौर पर 26/11 के रूप में जाना जाता है। 10 पाकिस्तानी आतंकवादी समुद्री मार्ग से मुंबई पहुंचे और लोगों पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं, जिसमें 18 सुरक्षाकर्मियों सहित 166 लोग मारे गए। अजमल कसाब एकमात्र आतंकवादी था जिसे जिंदा पकड़ा गया था। 21 नवंबर 2012 को कसाब को फांसी दे दी गई थी।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट