ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ के खिलाफ पोस्टर चिपकाने पर दो कांग्रेसी वर्कर को जेल, सीएम और दोनों डिप्टी सीएम को बताया था दंगाई….

शुक्रवार को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और कुछ अन्य भाजपा नेताओं का पोस्टर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगाया था जिसमें इन्हें 'दंगाई' बताया गया था।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (indian express)

उत्तर प्रदेश में इन दिनों पोस्टर व होर्डिंग लगाने की राजनीति ज़ोरों पर है। कुछ दिन पहले दो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कुछ अन्य भाजपा नेताओं के खिलाफ कुछ विवादित पोस्टर लगाए थे। जिसके लिए उन्हें गिरफ्तार किया गया और अब उन्हें जेल भेज दिया गया है। इससे पहले हालही में यूपी सरकार ने सीएए के विरोध में लखनऊ में हुई हिंसा के मामले में आरोपी बनाए गए लोगों के पोस्टर लगाए थे। जो बाद में इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद हटा दिये गए।

शुक्रवार को यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और कुछ अन्य भाजपा नेताओं का पोस्टर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगाया था जिसमें इन्हें ‘दंगाई’ बताया गया था। सोशल मीडिया पर पोस्टर वायरल होने के बाद पुलिस ने शनिवार को सुधांशु बाजपेई व लालू कन्नौजिया समेत अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में एफआइआर दर्ज की और उन्हें गिरफ्तार किया था।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राजधानी लखनऊ के हजरतगंज इलाके में मुख्यमंत्री योगी और उपमुख्यमंत्री मौर्य के खिलाफ अशोभनीय पोस्टर लगाने के आरोप में तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। उनमें से सुधांशु और अश्विनी को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीसरे आरोपी लालू की तलाश की जा रही है। ये पोस्टर शुक्रवार रात को लगाए गए थे लेकिन उन्हें शनिवार को हटवा दिया गया।

गौरतलब है कि नए नागरिकता कानून के खिलाफ गत 19 दिसंबर को राजधानी लखनऊ में हुई हिंसा के मामले में आरोपी बनाए गए 50 से ज्यादा लोगों के नाम, तस्वीर और पते समेत पोस्टर लखनऊ के हजरतगंज समेत चार थाना इलाकों में लगाए गए हैं। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को वे पोस्टर 16 मार्च तक हटाने के आदेश दिए थे। हालांकि राज्य सरकार ने इस आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है। मामले की सुनवाई अगले हफ्ते होगी।

जिन लोगों के पोस्टर राज्य सरकार ने लगवाए हैं उनमें से कई को अदालत ने जमानत दी है। राज्य सरकार की इस कार्यवाही के बाद सपा और कांग्रेस ने नया पोस्टर वार शुरू किया था। सपा के एक कार्यकर्ता ने हजरतगंज में ही होर्डिंग लगाकर उसमें बलात्कार के आरोप में घिरे पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद और उम्र कैद की सजा काट रहे पूर्व भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की तस्वीर लगाई थी। उसके बाद शुक्रवार को एक और पोस्टर नमूदार हुआ जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के कथित आपराधिक इतिहास का हवाला देते हुए दलील दी गई थी कि अगर बाकी दंगा आरोपियों के पोस्टर लग सकते हैं तो सबसे पहले इन ओहदेदारों से वसूली की जानी चाहिए।
(भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात में कांग्रेस के चार विधायकों ने दिया इस्तीफा, राज्यसभा चुनाव से पहले पार्टी को बड़ा झटका
2 मध्य प्रदेश: जयपुर के होटलों में ठहरे कांग्रेस विधायक लौटे भोपाल, कल होना है बहुमत परीक्षण
3 मध्य प्रदेश: बचेगी ‘कमल’ सरकार या खिलेगा ‘कमल’, सोमवार को बहुमत परीक्षण
IPL 2020 LIVE
X