दिल्‍ली के मलका गंज में जर्जर मकान गिरने से दो भाइयों की मौत

सब्जी मंडी थाना क्षेत्र के मलका गंज इलाके में सोमवार सुबह एक जर्जर मकान भरभरा कर ढह गया। मकान के मलबे की चपेट में आने से वहां से रिक्शा पर गुजर रहे दो भाइयों की मौत हो गई।

हादसे के बाद घटनास्थल पर बचाव कार्य में जुटे विभागीय और स्थानीय लोग। फोटो जनसत्ता

सब्जी मंडी थाना क्षेत्र के मलका गंज इलाके में सोमवार सुबह एक जर्जर मकान भरभरा कर ढह गया। मकान के मलबे की चपेट में आने से वहां से रिक्शा पर गुजर रहे दो भाइयों की मौत हो गई। इनकी पहचान रोशन आरा रोड निवासी 12 साल के सौम्य गुप्ता और सात साल के प्रशांत गुप्ता के तौर पर की गई है। दोनों भाई मलबे के नीचे दब गए थे। वहीं, पान दुकानदार 72 साल के रामजी दास घायल हो गए हैं। बच्चों की मां और रिक्शा चालक सलामत हैं। हादसे की सूचना स्थानीय पुलिस और दमकल विभाग को सोमवार सुबह करीब 11:50 बजे दी गई थी। मलबा हटाने के लिए बचाव दल के कर्मचारी देर शाम तक जुटे रहे। माना जा रहा है कि मलबे के अंदर कुछ लोग फंसे हो सकते हैं।

उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त अंटो अल्फोंस ने ने बताया कि मकान नंबर-8332, रोशन आरा में रहने वाले नितिन गुप्ता की पत्नी आयुषी रिक्शा पर अपने दोनों बेटों के साथ जा रही थीं, तभी मकान गिर गया। रिक्शा चालक और आयुषी तो बच गए, लेकिन उनके दोनों बेटे सौम्य और प्रशांत मलबे की चपेट में आ गए। हादसे की सूचना मिलने पर सोमवार दोपहर को जब तक बचाव दल ने दोनों बच्चों को बाहर निकाला, तब तक काफी देर हो चुकी थी।

पुलिस टीम जब बच्चों को बाड़ा हिंदूराव अस्पताल लेकर पहुंची तो डॉक्टरों ने दोनों को पहुंचते ही मृत घोषित कर दिया। उपायुक्त ने बताया कि फिलहाल मकान मालिक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता धारा 304 ए के अलावा अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। शुरुआती छानबीन में पता चला है कि मकान के नीचे दूध की दुकान है, जिसमें निर्माण कार्य चल रहा था। माना जा रहा है कि इस कारण यह हादसा हुआ होगा। यह मकान 35 गज में बना हुआ था। मकान के तीन मंजिल पर लोग रहते थे। अभी तक की छानबीन में पता चला है कि हादसे के वक्त ऊपरी मंजिल पर कोई नहीं था।

दिल्ली दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि सोमवार सुबह जानकारी मिली थी कि रोबिन सिनेमा सब्जी मंडी के पास एक मकान ढह गया है। सूचना मिलने पर पहले पांच और बाद में दो अन्य दमकलों को मौके पर रवाना किया गया। बाद में एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंची। इसके साथ ही नागरिक सुरक्षा कर्मी और निगम के अधिकारी और कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे। हालांकि, इनके पहुंचने से पहले पुलिस और दमकलकर्मियों ने स्थानीय लोगों की मदद से मलबा हटाना शुरू कर दिया था। दोपहर में सबसे पहले 72 साल के रामजी दास को बाहर निकाला गया। उनको पास के अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उनके सिर में चोट आई है। उसके बाद दोनों भाइयों को बचाव दल ने बाहर निकाला।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।