ताज़ा खबर
 

त्रिपुरा यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर ने कार्यक्रम में फहराया एबीवीपी का झंडा, ‘सांस्कृतिक संगठन’ बताया

वीसी धारुकर ने कहा कि मैं चीन और रूस का स्कॉलर हूं। मैं कार्ल मार्क्स और माओत्से सुंग के विचारों से भलीभांति अवगत हूं। मेरे विचार खुले हैं और मैं सभी छात्र संगठनों का समर्थन करता हूं।

Author नई दिल्ली | Updated: July 20, 2019 7:40 AM
वीसी विजयकुमार लक्ष्मीकांत धारूकर स्वामी विवेकानंद से संबंधित कार्यक्रम में शामिल हुए थे। (फाइल फोटो)

त्रिपुरा यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर विजयकुमार लक्ष्मीकांत धारुकर ने कैंपस में आयोजित एक कार्यक्रम में 10 जुलाई को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) का झंडा फहराया। इस संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने अपने इस काम का बचाव करते हुए कहा कि आरएसएस एक ‘सामाजिक और सांस्कृतिक संगठन’ है।

उन्होंने कहा कि यह किसी पार्टी से संबंधित नहीं है। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में बताया कि स्वामी विवेकानंद के शिकागो में दिए गए भाषण की 125वीं वर्षगांठ के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किया गया था। उन्होंने कहा, ‘मुझे इस कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण मिला था।

इसलिए मैं इसमें शामिल हुआ था। और मैं इसमें क्यों नहीं जाऊंगा? आप जिस संगठन एबीवीपी का उल्लेख कर रहे हैं व राष्ट्रविरोधी या आतंकवादी संगठन नहीं है। यह एक सामाजिक और सांस्कृतिक संगठन है जो जनसंघ से काफी पहले अस्तित्व में आया था। यह किसी पार्टी से संबंधित नहीं है।’

एबीवीपी का झंडा फहराए जाने से जुड़े सवाल के जवाब में धारूकर ने कहा, ‘वहां भाषण और पौधरोपण का कार्यक्रम भी था। वह कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद के शिकागो भाषण से जुड़ा था।’ धारुकर को पिछले साल जुलाई में यूनिवर्सिटी का वाइस चांसलर नियुक्त किया गया था।

65 वर्षीय धारुकर सालों से देशभर में कई संगठनों से जुड़े रहे हैं। वीसी के रूप में कैंपस में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कार्यक्रम में शामिल होने में उन्हें कुछ भी गलत नहीं लगता है। स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया जैसे किसी छात्र संगठन का झंडा फहराए जाने के सवाल पर धारुकर ने कहा, ‘मैं चीन और रूस का स्कॉलर हूं।

मैं कार्ल मार्क्स और माओत्से सुंग के विचारों से भलीभांति अवगत हूं। मेरे विचार खुले हैं और मैं सभी छात्र संगठनों का समर्थन करता हूं।’ त्रिपुरा यूनिवर्सिटी एक सेंट्रल यूनिवर्सिटी है। त्रिपुरा यूनिवर्सिटी में वाइस चांसलर नियुक्त होने से पहले धारुकर बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर मराठवाड़ा यूनिवर्सिटी, औरंगाबाद में जर्नलिज्म एंड मास कम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट विभाग के प्रमुख थे।

Next Stories
1 National Hindi News, 20 July 2019 Updates: सोनभद्र नरसंहार के पीड़ित परिजनों से मिलेंगे योगी आदित्यनाथ, कल करेंगे दौरा
2 तीन तलाक पर कानून नहीं बना तो मोदी सरकार भी राजीव गांधी वाली गलती करेगी: आरिफ मोहम्मद
3 Assam-Bihar Flood: असम में 47 तो बिहार में अब तक 92 लोगों की बाढ़ से मौत, लाखों लोग हुए बेघर
ये पढ़ा क्या?
X