ताज़ा खबर
 

पीएम के कार्यक्रम में मंत्री द्वारा महिला मंत्री को गलत ढंग से छूने का आरोप, वीडियो वायरल, बीजेपी बोली- दुष्प्रचार

राज्य बीजेपी में मीडिया सेल के प्रभारी विक्टर सोम के हवाले से रिपोर्ट्स में कहा गया- यह षडयंत्र है, जिसे विपक्ष ने हमारी छवि खराब करने के लिए रचा है। मैंने पूरा वीडियो देखा और मुझे उसमें कुछ भी गलत नहीं लगा।

Author February 11, 2019 10:10 AM
त्रिपुरा के खेल मंत्री मनोज कांति देब (फोटोः फेसबुक/manoj.debmla)

त्रिपुरा में खेल और युवा मामलों के मंत्री मनोज कांति देब की मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में उन पर सामाजिक कल्याण मंत्री सांतना चकमा को गलत ढंग से छूने का आरोप लगा है। शनिवार (नौ फरवरी, 2019) को घटना से जुड़ा एक कथित वीडियो भी सामने आया, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। इसी क्लिप के आधार पर खेल मंत्री पर आरोप लगाया गया।

हालांकि, महिला मंत्री की इस बाबत कोई प्रतिक्रिया नहीं आई, जबकि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने कथित वायरल क्लिप को फर्जी करार दिया। त्रिपुरा बीजेपी की तरफ से कहा कि यह महज विपक्ष की ओर से किया जा रहा दुष्प्रचार है। देब से पूछा गया तो वह बोले कि वीडियो से छेड़छाड़ हुई है। बकौल मंत्री, “यह कैसे संभव है, वह भी पीएम और भारी भीड़ की मौजूदगी में? वीडियो के साथ जिसने भी छेड़खानी की, वह बेहद गिरी और घटिया मानसिकता का व्यक्ति होगा। मैं तो उस दौरान केवल आगे आना चाह रहा था।”

वहीं, राज्य बीजेपी में मीडिया सेल के प्रभारी विक्टर सोम के हवाले से रिपोर्ट्स में कहा गया- यह षडयंत्र है, जिसे विपक्ष ने हमारी छवि खराब करने के लिए रचा है। मैंने पूरा वीडियो देखा और मुझे उसमें कुछ भी गलत नहीं लगा। वीडियो को क्रॉप (एडिट) किया गया है…अगर कोई आरोपित सीन (गलत तरीके से छूने वाले) के पहले की फुटेज ध्यान से देखे तो स्थिति साफ हो जाएगी।

उनके मुताबिक, “असली वीडियो में देब किनारे खड़े थे। पीएम जब कार्यक्रम का उद्घाटन करने वाले थे, तब मंत्री थोड़ा आगे आना चाह रहे थे, जिसके बाद अनजाने में उनसे वह हो गया था।”

यह घटना तब की है, जब पीएम अपने तीन दिनों के नॉर्थ ईस्ट (उत्तर पूर्वी भारत) दौरे के तहत त्रिपुरा में पहुंचे। वह उस कार्यक्रम में विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करने गए थे, जबकि चकमा त्रिपुरा कैबिनेट में इकलौती महिला मंत्री हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App