ताज़ा खबर
 

सुना था- पंजा रखने से होती है धन वर्षा, इसलिए काट दिया बाघ का पंजा

मध्य प्रदेश के रातापानी सेंचुरी के बिनेका रेंज के लुलका गांव के पास हुए बाघ के शिकार मामले में शुक्रवार को तीन आरोपियों को पकड़ लिया गया है।

मृत बाघ की प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- सोशल मीडिया

मध्य प्रदेश के रातापानी सेंचुरी के बिनेका रेंज के लुलका गांव के पास हुए बाघ के शिकार मामले में शुक्रवार को तीन आरोपियों को पकड़ लिया गया है। बता दें कि 48 घंटे में तीनों आरोपियों को राज्यस्तरीय और क्षेत्रीय एसटीएफ वाइल्ट लाइफ ने डॉग मैना की मदद से पकड़ा। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि बाघ के पंजे घर में रखने से धन वर्षा होती है, इसलिए उन्होंने पंजे काटे।

आरोपियों का क्या है कहना
तीनों आरोपी लुलका गांव के चरवाहें हैं जिनका कहना है कि उन्होंने बाघ के पंजे इसलिए काटकर रख लिए क्योंकि बाघ के पंजे घर में रखने से धन वर्षा होती है। वहीं बाघ को मारने की बात से उन्होनें इनकार कर दिया और कहा कि उन्होंने बाघ को नहीं मारा लेकिन मरे हुए बाघ के सिर्फ पंजे काटे हैं। अब ऐसे में सवाल ये है कि आखिर बाघ की मौत कैसे हुई है। वहीं टीम ने बाघ के पंजे और कुल्हाड़ी आरोपियों के पास से बरामद कर ली है।

1 दिसंबर को काटे पंजे और छिपा दिया
औबेदुल्लागांज डीएफओ ने बताया कि रातापानी सेंचुरी में हुए बाघ के शिकार में पंजे काटने वाले मुख्य आरोपी हरचंद्र ने बताया कि 28 नवंबर को जंगय में गाय चराने गया था। तब उसने देखा कि वहां पर एक बाघ लेटा है। बाघ देखकर वो डर गया लेकिन उसने देखा कि वो हिल डुल नहीं रहा है। तो उसे सोता मान वो वहां से भाग गया। ये बात उसने अपने कुछ दोस्तों से कही और एक दिसंबर को वो वापस जंगल आए। तब हरचंद्र ने देखा की बाघ अब भी वैसे ही लेटा है। ये देख उन्हें उसकी मौत का शक हुआ। जिसके बाद उसन बाघ के पंजे काटने की योजना बनाई और पंजे काटकर छिपा दिए।

4 दिसंबर को बाघ की मौत का पता चला
आरोपी ने 28 नवंबर को बाघ को मरा हुआ देखा था वहीं उसने 1 दिसंबर को उसके पंजे काट लिए। लेकिन इस पूरे मामले की जानकारी वन विभाग को 4 दिसंबर को हुई। हालांकि बाघ की मौत के कारण अभी तक सामने नहीं आए हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके शरीर पर गोली या डंडे के कोई निशान नहीं मिले हैं। उसका अमाशय भी खाली मिला है। हालांकि सीसीएफ एसपी तिवारी का कहना है कि पोस्टमार्टम और बिसरा रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।

 

सर्चिंग में पकड़े गए दो शिकारी
बाघ के पंजे काटे जाने के बाद इलाके में आरोपियों की तलाश कर रही एसटीएफ औ डॉग स्काव्यड को दो शिकारी हाथ लगे हैं, जिसमें आरोपी मानसिह के घर से मोर के पंजे और सुअर का मांस बरामद किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App