ताज़ा खबर
 

घर से ऑनलाइन माध्यमों से शुरू हुई पढ़ाई

उत्तर पूर्व दिल्ली के अधिकारी राजीव कुमार की तरफ से एक जारी एक आदेश में अध्यापकों को बच्चों को पीपीटी बनाकर बच्चों को उपलब्ध करने के आदेश दिए हैं ताकि बच्चे इनके आधार पर नई कक्षाओं की तैयारी कर सकें। इन कक्षाओं का फीडबैक भी और संबंधित अधिकारियों को इस बाबत सूचित भी करें।

दिल्ली सरकार के स्कूलों में भी शुरू हो चुकी है पहल : सात से लेकर 12 तक की कक्षाएं शुरू की गई हैं।

पंकज रोहिला

देशव्यापी बंद के बाद स्कूल, कॉलेज व अन्य शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई बंद नहीं है। यह रास्ता संस्थानों ने वॉट्सऐप, वीडियो संदेश और ऑडियो कक्षाओं से निकला है। शिक्षण संस्थानों ने इस तकनीक से कक्षाएं शुरू कर दी हैं।

12 स्कूलों के लाखों बच्चे रोज लेते हैं कक्षाएं : ऑनलाइन कक्षाओं के जरिए बच्चों को वॉट्सऐप व जूम ऐप के माध्यम से कक्षाएं दी रही हैं। गुरु हरकिशन स्कूल के अध्यक्ष कुलवंत सिंह भाट ने बताया सिख गुरूद्वारा प्रबंध समिति से हमारे स्कूलों की 12 शाखाएं संचालित की जा रही हैं। कक्षा अध्यापक के माध्यम से दिए जाने वाले कामों से पढ़ाई के नुकसान को कम करने की कोशिश की जा रही है और प्रतिदिन लाखों बच्चे इसका लाभ ले रहे हैं। अभी भी हालात से यह नहीं पता चल पा रहा है कि स्कूल कब खुलेंगे।

ऐसी ही हालत कक्षा 9 व 11 के बच्चों की भी है क्योंकि उनकी कम्पार्टमेंट की परीक्षा नहीं हो पा रही हैै। बंद से स्कूल प्रबंधन की भी परेशानियां बढ़ी हैं क्योंकि अभिभावक फीस जमा नहीं करा पा रहे है। इस शिक्षकों को वेतन जारी करने में भी चुनौती उठानी पड़ रही है।

दिल्ली सरकार के स्कूलों में भी शुरू हो चुकी है पहल : सात से लेकर 12 तक की कक्षाएं शुरू की गई हैं। इसके लिए बच्चों को यूट्यूब, वॉट्सऐेप और ओडियो संदेश के माध्यम से पढ़ाया जा रहा है। अध्यापकों की तरफ से कक्षाओं के ऑनलाइन समूह बनाए गए हैं। शिक्षा निदेशालय के अधिकारियों को इस बाबत लिखित आदेश दिए गए हैं।

उत्तर पूर्व दिल्ली के अधिकारी राजीव कुमार की तरफ से एक जारी एक आदेश में अध्यापकों को बच्चों को पीपीटी बनाकर बच्चों को उपलब्ध करने के आदेश दिए हैं ताकि बच्चे इनके आधार पर नई कक्षाओं की तैयारी कर सकें। इन कक्षाओं का फीडबैक भी और संबंधित अधिकारियों को इस बाबत सूचित भी करें।

शिक्षक व छात्र दोनों का प्रशिक्षण जरूरी: डीयू की प्रोफेसर व ऑनलाइन विशेषज्ञ डॉ विमल बताती हैं कि ऑनलाइन शिक्षा के लिए छात्र व शिक्षक दोनों के लिए ही प्रशिक्षण जरूरी है, इससे ऑनलाइन लापरवाहियों से बचा जा सकेगा। बंद की स्थिति में यही एकमात्र शिक्षण माध्यम है। इसमें कैसे शिक्षण या प्रशिक्षण देना इसके लिए मंत्रालय के दिशानिर्देश है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पूर्णबंदी का रमजान भी अलग, दुआएं भी अकेले-अकेले
2 ‘मजदूरों, विद्यार्थियों से न मांगें किराया’, दिल्ली सरकार ने फिर जारी किया सर्कुलर, अफसरों से कहा- सख्ती से कराएं पालन
3 दिल्ली: गेट पर तैनात पुलिसवालों पर हमला बोल 11 किशोर सुधार गृह से फरार, दो गार्ड घायल
ये पढ़ा क्या?
X