ताज़ा खबर
 

सेना में नौकरी का देने का करते थे वादा, 100 से अधिक लोगों को बना चुके थे शिकार, जानें मामला

पुलिस ने तीन ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है जो करीब 100 लोगों को सेना में नौकरी का झांसा देकर उनसे पैसे ठग चुके हैं।

प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

पुलिस ने तीन ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है जो करीब 100 लोगों को सेना में नौकरी का झांसा देकर उनसे पैसे ठग चुके हैं। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए तीन लोगों में से दो खुद फर्जी नौकरी के रैकेट का शिकार थे। जिसके बाद उन्होंने सेना की वर्दी पहनकर और भुवनेश्वर के एक होटल में फर्जी मेडिकल टेस्ट कराकर और बाद में फर्जी एडमिट कार्ड जारी कर लोगों को ठगना शुरू कर दिया।

कौन हैं आरोपी: पुलिस ने आरोपियों की पहचान हरियाणा के बालकिशन और आंध्र प्रदेश के काल्लेपाली श्रीनिवास राव और कोट्टापाली वेंकट राव के रूप में की। महिपालपुर में फर्जी एडमिट कार्ड देने जाते समय उन्हें क्राइम ब्रांच की टीम ने पकड़ लिया। इसके साथ ही पुलिस ने ग्यारह फर्जी एडमिट कार्ड और तीन फोन भी जब्त किए हैं। पुलिस ने बताया कि श्रीनिवास आंध्र प्रदेश यूनिवर्सिटी से एलएलबी कर रहा है। वहीं उसने सेना के लिए भी आवेदन किया था लेकिन हुआ नहीं। वहीं वेंकट राव श्रीनिवास का टीचर है।

National Hindi News, 16 April 2019 LIVE Updates: पढ़े दिनभर की हर बड़ी खबर सिर्फ एक क्लिक पर

पुलिस का क्या है कहना: पुलिस के मुताबिक यह घटना तब सामने आई जब एक व्यक्ति ने बताया कि नौकरी के उसने उन्हें 1 लाख रुपए दिए हैं। इसके साथ ही पुलिस ने दावा किया कि रैकेट के पीछे बालकिशन का दिमाग था और वह नकली मेडिकल अफसर का किरदार निभा रहा था। वहीं एसीपी (क्राइम) राजीव रंजन ने बताया- ‘वह एक स्टेथोस्कोप पहनेंगे और परीक्षण करेंगे … उन्होंने नकली एडमिट कार्ड पर साइन भी किए।’ इसके साथ ही रंजन ने बताया कि बालकिशन इस फेक जॉब रैकेट से पहले एक कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाता था। वहीं बाद में वो श्रीनिवास राओ के संपर्क में आया और रैकेट शुरू किया। इससे पहले भी वो बीके सिंह के साथ एक ऐसे रैकेट में काम करता था।

 

सेना में हैं बालकिशन के अंकल: पुलिस ने बताया कि बालकिशन के अंकल सेना में हैं। ऐसे में जब उसके अंकल मौजूद नहीं होते तब वो उनकी वर्दी पहनता और खुद की फोटोज क्लिक करता। जिसका इस्तेमाल वो लोगों को बेवकूफ बनाने में करता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App