ताज़ा खबर
 

तीन तलाक दिया तो मानी जाएगी शौहर की गलती

तीन तलाक को लेकर देश में छिड़ी जोरदार बहस के बीच मुसलमानों की ‘तुर्क’ बिरादरी ने बड़ी पहल करते हुए अपने समाज में ‘एक साथ तीन तलाक’ देने पर पाबंदी लगाई है और कहा है कि अब तीन तलाक के मामले में सारी गलती शौहर की मानी जाएगी।

Author संभल | May 6, 2017 4:42 AM
भारतीय मुसलिम महिलाएं

तीन तलाक को लेकर देश में छिड़ी जोरदार बहस के बीच मुसलमानों की ‘तुर्क’ बिरादरी ने बड़ी पहल करते हुए अपने समाज में ‘एक साथ तीन तलाक’ देने पर पाबंदी लगाई है और कहा है कि अब तीन तलाक के मामले में सारी गलती शौहर की मानी जाएगी। साथ ही पंचायत के पास उसे सजा देने का अधिकार होगा। संभल के करीब 55 गांवों में फैली करीब 50 हजार आबादी वाली तुर्क बिरादरी की पंचायत गुरुवार हाजीपुर गांव में बैठी थी जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। पंचायत की अध्यक्षता करने वाले असरार अहमद ने बताया कि पंचायत ने एक ही बार में तीन तलाक देने की प्रथा को गलत बताते हुए कहा कि बैठक में तुर्क बिरादरी में इस पर पाबंदी लगाने का फैसला किया गया है।

उन्होंने बताया कि पंचायत का कहना है कि घरेलू झगड़ों को लेकर एक बार में तीन तलाक नहीं दिया जाए। अगर कोई एक बार में तीन तलाक देता है तो उस मामले में पंचायत पूरी गलती शौहर की ही मानेगी। साथ ही पंचायत को लड़के को दंडित करने का अधिकार होगा। अहमद ने बताया कि अगर किसी व्यक्ति का अपनी पत्नी से कोई विवाद है तो पहले अपनी शिकायत पंचायत में रखे। कैसे भी हालात हों, मगर एक बार में तीन तलाक नहीं दें। अगर जरूरी हो तो एक बार तलाक कहें और बीवी को कम से कम एक महीने का समय दें।
तुर्क बिरादरी पिछले महीने हुई अपनी पंचायत में गोहत्या पर भी पाबंदी लगा चुकी है। इससे पहले भी वह अपनी बिरादरी की शादियों में फिजूलखर्जी, दहेज और नेग के लेन-देन पर पाबंदी लगा चुकी है।

HOT DEALS
  • Nokia 1 | Blue | 8GB
    ₹ 5199 MRP ₹ 5818 -11%
    ₹624 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

तीन तलाक को लेकर तुर्क बिरादरी का फैसला ऐसे वक्त आया है, जब देश में इस मुद्दे को लेकर जोरदार बहस हो रही है। केंद्र सरकार और कई मुसलिम महिला संगठन जहां तीन तलाक का विरोध कर रहे हैं, वहीं मुसलमानों की सबसे बड़ी संस्था ‘आॅल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड’ ने इस व्यवस्था को शरीयत का हिस्सा बताते हुए इसे बरकरार रखने का फैसला किया है। बहरहाल, बोर्ड ने तीन तलाक का दुरुपयोग होने की बात स्वीकार करते हुए पिछले महीने अपनी कार्यकारिणी की बैठक में कहा था कि जो व्यक्ति बिना ठोस शरई कारण अपनी बीवी को तीन तलाक देता है, तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App