The UP Police today recorded the statement of a 16-year-old girl, who was sexually assaulted - Jansatta
ताज़ा खबर
 

AIIMS में दर्ज हुए बयान में बोली नाबालिग रेप पीड़िता, कहा- रेत खनन का ठेका देने का वादा कर किया 2 साल तक बलात्कर

उत्तर प्रदेश पुलिस ने 16 साल की एक लड़की का आज यहां एम्स में बयान दर्ज किया, जिसका यौन उत्पीड़न किया गया और उसकी मां से उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति और उसके सहयोगियों ने कथित तौर पर कई बार सामूहिक बलात्कार किया था।

Author नई दिल्ली | March 2, 2017 10:15 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तर प्रदेश पुलिस ने 16 साल की एक लड़की का आज यहां एम्स में बयान दर्ज किया, जिसका यौन उत्पीड़न किया गया और उसकी मां से उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति और उसके सहयोगियों ने कथित तौर पर कई बार सामूहिक बलात्कार किया था। लड़की के परिवार और उनके वकील के विरोध के बावजूद उसका बयान दर्ज किया गया। वकील ने राज्य पुलिस पर धमकी देने और जबरदस्ती बयान दर्ज करने का आरोप लगाया है। लड़की को अस्पताल के एक प्रतिबंधित वार्ड में भर्ती किया गया है। पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) अमीता सिंह ने अस्पताल के मेडिकल अधीक्षक से इजाजत लेने के बाद पीड़िता का बयान दर्ज किया। उन्होंने पीड़िता की मां से भी बात की। डीएसपी ने बताया, ‘‘मैंने नाबालिग लड़की का बयान दर्ज किया और यौन अपराध से बाल संरक्षण (पोक्सो) अधिनियम के नियमों के मुताबिक समूची प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की।

उन्होंने बताया कि जब लड़की का बयान दर्ज किया जा रहा था तब उसकी मां उसके सामने बैठी थी। उसकी मां शिकायतकर्ता हैं। लड़की का प्रतिनिधित्व कर रहे वकील महमूद प्राचा ने बयान दर्ज किए जाने का सख्त विरोध किया और जानना चाहा कि किस आधार पर यह किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि एम्स वार्ड के अंदर पुलिस ने लड़की और उसकी मां को धमकी दी। उन्होंने उनका मोबाइल फोन भी छीन लिया। लड़की अब तक सदमे में है।

प्राचा ने पूछा, ‘‘उसका बयान दर्ज करने के लिए वे लोग बल प्रयोग कैसे कर सकते हैं।’ एम्स में दिल्ली पुलिस के कुछ अधिकारी भी मौजूद थे। उप्र पुलिस प्रजापति और उसके सहयोगियों के खिलाफ पहले ही प्राथमिकी दर्ज कर चुकी है। लखनऊ में मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष लड़की की मां का बयान पहले ही दर्ज किया जा चुका है। लड़की को 22 फरवरी को एम्स में भर्ती कराया गया था।

लड़की की मां ने दावा किया है कि राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी में एक पद और रेत खनन का ठेका देने का वादा कर उससे दो साल से भी अधिक समय तक कई बार सामूहिक बलात्कार किया गया। लड़की की मां ने उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था जिसने मंत्री और उसके सहयोगियों के खिलाफ घटना के सिलसिले में एक प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था। नाबालिग लड़की का इलाज कर रहे चिकित्सकों के मुताबिक वह गहरे सदमे में है। उनके मुताबिक ‘‘वह डर के साये में रह रही है। वह रात को सो नहीं पाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App