ताज़ा खबर
 

सड़क पर जल्द नहीं बदलती सरकार

कश्मीरी गेट अंतरराज्यीय बस अड्डे से होकर राज निवास मार्ग पर पहुंचते ही दूर से ही दिखता है नीले रंग का बोर्ड।

Author नई दिल्ली | Published on: September 9, 2016 4:43 AM
कश्मीरी गेट अंतरराज्यीय बस अड्डे से होकर राज निवास मार्ग पर पहुंचते ही दूर से ही दिखता है नीले रंग का बोर्ड

कश्मीरी गेट अंतरराज्यीय बस अड्डे से होकर राज निवास मार्ग पर पहुंचते ही दूर से ही दिखता है नीले रंग का बोर्ड। इसमें सफेद रंगों से बड़े-बड़े अक्षरों में संदीप कुमार को महिला एवं बाल विकास, समाज कल्याण, अनुसूचित जाति एवं जनजाति मंत्री दिल्ली सरकार लिखा हुआ है। फिलहाल संदीप कुमार बलात्कार के आरोप में शुक्रवार तक पुलिस हिरासत में हैं। अन्य दस्तावेज में तो संदीप कुमार के साथ पूर्व मंत्री व आप के निलंबित नेता जैसे विशेषण दर्ज हो चुके हैं। लेकिन स्थानीय निकाय प्रशासन को यह होश नहीं कि इस बोर्ड को हटा लिया जाए।

आम आदमी पार्टी के विधायक और समाज कल्याण मंत्री संदीप कुमार को आपत्तिजनक सीडी मिलने के बाद आप के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंत्रिपद से 31 अगस्त को ही बर्खास्त कर दिया था। सीडी में संदीप कुमार एक महिला के साथ आपत्तिजनक हालत में दिख रहे थे और इसे लेकर हो रही आलोचनाओं के कारण संदीप कुमार को 3 सितंबर को आम आदमी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निलंबित कर दिया गया था। अरविंद केजरीवाल ने कुमार को ‘गंदी मछली’ बताते हुए कहा था कि उन्होंने आप की उम्मीदों से धोखा किया है। वहीं आपत्तिजनक सीडी में दिखाई देनेवाली महिला ने संदीप कुमार पर नशीला पदार्थ खिलाकर बलात्कार करने का आरोप लगाया। महिला की शिकायत के बाद पूर्व मंत्री पर बलात्कार, नशीला पदार्थ पिलाकर नुकसान पहुंचाने और सूचना तकनीक कानून के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

सुल्तानपुर माजरा सीट से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयकिशन को रेकॉर्ड 68 हजार मतों से हराकर संदीप कुमार विधायक बने थे।
31 अगस्त को ही मंत्रिपद से बर्खास्तगी के बावजूद नौ दिनों बाद राज निवास मार्ग पर चमचमाता यह बोर्ड स्थानीय निकाय प्रशासन की काहिली दिखाने के लिए काफी है। महिला शोषण जैसे जिस संवेदनशील मुद्दे पर संदीप कुमार को तुरंत कुर्सी गंवानी पड़ी। लेकिन इसे लेकर शायद स्थानीय प्रशासन उतना संवेदनशील नहीं है।?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 टैक्सियों के लिए सर्ज प्राइसिंग गलत तो रेल टिकट पर कैसे?
2 क्या माफियाओं का सियासी अखाड़ा बनेगा जौनपुर?
3 अलगाववादियों को देश का धन देने वाली याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट