ताज़ा खबर
 

26 साल बाद खुला इडुक्‍की बांध का गेट तो आया सैलाब, देखें वीडियो

सेना इडुक्की, वयनाड, कोझिकोड और मलप्पुरम जिलों में बचाव एवं राहत कार्यो में जुटी हुई है। बता दें कि केरल में बाढ़ के कारण लोगों को काफी परेशानी हो रही है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से टेलीफोन पर बात की और बाढ़ से हुए नुकसान की जानकारी ली।

इडुक्‍की बांध का गेट खुला (फोटो सोर्स- ट्विटर/@mithunmedamana)

केरल में तेज बारिश के कारण उथल-पुथल मची हुई है। यहां तेज बारिश और भूस्खलन के कारण 48 घंटों में अबतक 27 लोगों की मौत हो चुकी है। बीते दिनों की भारी बारिश के कारण इडुक्की बांध का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है, जिसके कारण इसके सभी गेट खोल दिए गए हैं। इडुक्की का एक गेट को 26 सालों के बाद खोला गया है। इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि इडुक्की बांध के सारे गेट खोले गए हैं।

केरल के एक मंत्री ने कहा कि बांध के शटर बढ़ते जलस्तर के दबाव को कम करने के लिए कुछ घंटों के लिए ही खोले गए और घबराने की कोई बात नहीं है। इडुक्की के रहने वाले केरल के ऊर्जा मंत्री एम.एम. मणि ने जानकारी दी कि 9 अगस्त को द्वार खोलने के बाद भी एक स्थिर प्रवाह रहा और वर्तमान में बांध का जलस्तर 2,401 मीटर है, इसलिए ज्यादा पानी जारी करने का फैसला लिया गया। इडुक्की बांध के गेट खोलने के कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें साफ दिख रहा है कि गेट खोलने के बाद किस तरह का जल सैलाब आया था।

सेना इडुक्की, वयनाड, कोझिकोड और मलप्पुरम जिलों में बचाव एवं राहत कार्यो में जुटी हुई है। बता दें कि केरल में बाढ़ के कारण लोगों को काफी परेशानी हो रही है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से टेलीफोन पर बात की और बाढ़ से हुए नुकसान की जानकारी ली। राजनाथ ने उन्हें आश्वासन दिया कि केंद्र हर संभव मदद करने के लिए तैयार है। राजनाथ ने ट्वीट कर कहा, ‘केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से बात की और राज्य में बाढ़ की स्थिति की जानकारी ली। मैंने राज्य सरकार को केंद्र से सभी संभावित सहायता मुहैया कराने का आश्वासन दिया है।’ राजनाथ ने कहा कि राहत और बचाव अभियान चल रहा है और गृह मंत्रालय स्थिति पर बराबर नजर रखे हुए है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App