ताज़ा खबर
 

पेंशन और मेट्रो लाइन को मजबूती

दिल्ली सरकार वृद्धों, विकलांगों और विधवाओं की मासिक पेंशन राशि बढ़ाने जा रही है। इसका फैसला दिल्ली सरकार की मंत्रिमंडल की बैठक में शुक्रवार को किया है।

Author नई दिल्ली | January 7, 2017 1:36 AM
दिल्ली मेट्रो। (File Pic)

दिल्ली सरकार वृद्धों, विकलांगों और विधवाओं की मासिक पेंशन राशि बढ़ाने जा रही है। इसका फैसला दिल्ली सरकार की मंत्रिमंडल की बैठक में शुक्रवार को किया है। दिल्ली विधानसभा का दो दिन का शीतकालीन सत्र 17 और 18 जनवरी को होगा। दिल्ली सरकार राजधानी में पांच लाख लोगों को वद्धावस्था पेंशन और विकलांग पेंशन देती रही है। सरकार अब तक इस मद में 765 करोड़ रुपए खर्च करती रही है। अब इसमें 2017-18 में अतिरिक्त खर्च होने से इसका बजट 1431 करोड़ रुपए हो जाएगा। इसी तरह से सरकार को विकलांगता की पेंशन लगाने की एक हजार अतिरिक्त अर्जियां मिली है। इस कारण इस मद का बजट भी 43 करोड़ रुपए बढ़ने के बाद वह 228 करोड़ हो जाएगा। मंत्रिमंडल ने फैसला किया है कि 60 से 69 आयु के लोगों को दो हजार रुपए प्रति माह की पेंशन मिलेगी। 69 की आयु से ज्यादा के लोगों को ढाई हजार की पेंशन मिलेगी। विकलांगों को अब प्रत्येक माह 1500 हजार की जगह 2000 रुपए मिलेंगे। विधवाओं को 1500 की जगह 2500 हजार की पेंशन मिलेगी।

मेट्रो के चौथे चरण को मिली मंजूरी

दिल्ली सरकार अब तक 60 से 79 आयु वर्ग के 1,78,318 लोगों, 70 साल से ज्यादा के 2,0437 लोगों और 69403 विकलांगों क ो पेंशन देती रही है। ये पेंशन फरवरी 2017 से मिलनी शुरू हो जाएंगी। पेंशन अब उस परिवार को भी मिलेगी जिन्हें सालाना ज्यादा से ज्यादा एक लाख रुपए किसी भी मद से आता हो। पहले यह पेंशन उसे मिलती थी, जिसके ज्यादा से ज्यादा सालाना 60 हजार रुपए की वार्षिक कमाई थी। राजधानी में वृद्ध, विकलांग और विधवाओं को अगर कहीं से भी पहले 60 हजार रुपए सालाना आता था, तो वे पेंशन के हकदार हो जाते थे, जिसे सरकार ने अब बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया है। इस श्रेणी में अगर किसी को भी आय का सालाना स्रोत न हो तो वह भी पेंशन का हकदार होगा।

दिल्ली कैबिनेट की बैठक में शुक्रवार को मेट्रो के चौथे चरण की मंजूरी मिली है। इस चरण में दिल्ली मेट्रो के कुल छह रूट बनेंगे। जिसके बनने से बाहरी दिल्ली के इलाकों सहित हवाईअड्डे से मेट्रो की सवारी सुगम हो जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अगुआई में कैबिनेट की इस बैठक में कई निर्णयों के बीच दिल्ली मेट्रो के चौथे चरण को भी अमल में लाया गया।
चौथे चरण के लिए दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) को 50 हजार करोड़ रुपए का बजट दिया गया है। जिसके खर्च से अगले छह साल में चौथे चरण का काम पूरा करना होगा। संभावित साल 2021 तक इस मेट्रो परियोजना के पूरी होने से दिल्ली-एनसीआर के 8.5 लाख लोगों को मेट्रो से जोड़ा जा सकेगा। इस दौरान मेट्रो का 113 किलोमीटर का यात्रा दायरा भी बढ़ जाएगा। इस चरण के मेट्रो निर्माण में 68 किलोमीटर एलिवेटेड निर्माण होगा। वहीं डीएमआरसी हर महीने चौथे चरण के कामों की रिपोर्ट दिल्ली कैबिनेट को सौंपेगी। आगामी दिनों में बनने वाली मेट्रो रूट में पहली रिठाला से बवाना-नरेला, दूसरी जनकपुरी पश्चिमी से आरके आश्रम, तीसरा मुकुंदपुर से मौजपुरा, चौथा इंद्रलोक से इंद्रप्रस्थ, पांचवां एअरोसिटी से तुगलकाबाद और छठा लाजपत नगर से साकेत जी-ब्लॉक है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App