ताज़ा खबर
 

चिटफंड मामले में कांग्रेस का बहिर्गमन

छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने गैर बैंकिंग संस्थाओं द्वारा राज्य के नागरिकों के साथ धोखाधड़ी के दर्ज प्रकरणों पर कार्रवाई को लेकर सदन से बहिर्गमन किया।

Author रायपुर | March 3, 2017 12:14 AM

छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने गैर बैंकिंग संस्थाओं द्वारा राज्य के नागरिकों के साथ धोखाधड़ी के दर्ज प्रकरणों पर कार्रवाई को लेकर सदन से बहिर्गमन किया।  विधानसभा में आज कांग्रेस सदस्य मोतीलाल देवांगन ने चिटफंड कंपनियों तथा गैर बैंकिंग संस्थाओं द्वारा राज्य के नागरिकों के साथ धोखाधड़ी को लेकर सवाल किया। उन्होंने सवाल किया कि पीड़ित निवेशकों की राशि कब तक लौटा दी जाएगी।  गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने जवाब में बताया कि 190 मामलों में 111 कंपनियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इन कंपनियों द्वारा 133697 निवेशकों से चार अरब 84 करोड़ 39 लाख 18 हजार 122 रूपए की ठगी की गई है। पैकरा ने बताया कि इस मामले में कंपनियों के 124 निदेशकों, 59 कर्मचारियों और 192 एजेंटों को गिरफ्तार किया गया है।

पैकरा ने कहा कि पीड़ित निवेशकों की राशि लौटाने की तिथि बताना संभव नहीं है। यह न्यायालय के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत है। पैकरा ने बताया कि अनियमित वित्तीय कार्य करने वाली कंपनियों के खिलाफ शासन द्वारा विशेष कार्य योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ के निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005, नियम 2015 लागू कर दिया गया है। जिसके अंतर्गत कार्यवाही की जा रही है। पैकरा के जवाब के बाद कांग्रेस के सदस्यों ने कहा कि अब तक जो भी कार्रवाई हुई है वह छोटे एजेंटों पर हुई है। मालिकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। लगभग 25 लोग परेशान होकर आत्महत्या कर चुके हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि इसके पहले भी मुख्यमंत्री ने इसी सदन में घोषणा की थी कि धोखाधड़ी रोकने के लिए एक स्पेशल सेल गठित किया जायेगा। लेकिन इस संबंध में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। बघेल ने कहा कि छोटे लोगों को पकड़ा जा रहा है पर मालिकों को नहीं पकड़ा जा रहा है। बघेल ने आरोप लगाया कि राज्य के मंत्री स्वयं चिटफंड कंपनी का उद्घाटन करने गए जिसके कारण ही लोग झांसे में आकर इसमें फंस गए। उन्होंने कहा कि सरकार चिटफंड कंपनियों के मालिकों को गिरफ्तार करे। इसके बाद विपक्ष के सदस्यों ने नारेबाजी करते हुए सदन से बहिर्गमन कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App