ताज़ा खबर
 

हत्या कर मंदिर के कुएं में फेंका शव…

वारदात को अंजाम देने वालों ने हत्या के बाद शव को मंदिर के पास स्थित कुएं में फेंक दिया। सुबह मंदिर गये लोगों ने कुएं में शव को देख तो सनसनी फैल गई।

चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में सचेंडी थाने के अंतर्गत बगीचे की रखवाली कर रहे युवक की हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम देने वालों ने हत्या के बाद शव को मंदिर के पास स्थित कुएं में फेंक दिया। सुबह मंदिर गये लोगों ने कुएं में शव को देख तो सनसनी फैल गई। सूचना की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने फारेंसिक की साथ जांच पड़ताल करते हुए कार्यवाही शुरू कर दी है। पुलिस के द्वारा मिली जानकारी के अनुसार जनपद के ग्रामीण क्षेत्र सचेंडी थाने के ठीक पीछे अमरूद का बगीचा है। बगीचे में बीती रात कल्लू का बेटा प्रकाश रखवाली कर रहा था।

मंगलवार को थाने के ठीक पीछे चंद कदम दूरी पर बने काली मंदिर में लोग पूजा अर्चना के लिए पहुंचे। इस बीच मंदिर परिसर के पास स्थित कुएं में जैसे ही लोग पानी लेने गये तो उनके होश उड़ गये। कुएं में शव पड़ा हुआ था। शव की जानकारी उन्होंने पुजारी व पुलिस को दी। थाने के ठीक पीछे कुएं में शव की जानकारी मिलते ही थानाध्यक्ष फोर्स के साथ पहुंचे। उन्होंने आसपास देखा तो 20 मीटर दूर के करीब बगीचे से किसी को घसीटने के निशान मिट्टी में मिले। यहां पर खून भी मिट्टी में पड़ा था।

पुलिस ने आनन-फानन शव को कुएं से निलवाया तो मृतक की शिनाख्त बगीचे की रखवाली करने वाले प्रकाश का निकला। शरीर पर चोटों के निशान थे तो खून भी जमा हुआ था।इससे पुलिस ने हत्या कर शव को घसीटकर कुएं में फेंकने की आशंका जताते हुए फारेंसिक टीम के साथ जांच शुरू की। हत्या कर शव कुएं में फेके जाने की सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश सिंह, पुलिस उपाधीक्षक सदर भी घटनास्थल पर पहुंच गये। डॉग व फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाये।

एसपी ग्रामीण ने बताया कि हत्यारों ने वारदात को अंजाम देने के बाद शव छुपाने के उद्देश्य से घसीटकर कुएं में फेका है। घटना के पीछे रंजिश व अन्य बिन्दुओं पर जांच की जा रही है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम भेजते हुए आगे की कार्यवाही शुरू कर दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App