ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरनगर: हिंदू के घर में दफनाई हुई मिली मुस्‍ल‍िम युवक की लाश, इलाके में तनाव

मामला कवाल का है, जो प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ है। मृतक युवक के आरोपी शख्‍स की भतीजी से रिश्‍ते थे।

Author July 21, 2016 9:21 PM
कवाल वही जगह है, जहां 2013 में कुछ युवकों की हत्‍या के बाद सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे थे। (EXPRESS FILE PHOTO)

मुजफ्फरनगर जिले के कवाल में गुरुवार को उस वक्‍त तनाव फैल गया, जब लापता चल रहे एक मुस्‍ल‍िम युवक का शव कथित तौर पर एक हिंदू शख्‍स के अहाते में दफनाया हुआ मिला। आरोप है कि हिंदू शख्‍स की भतीजी मृतक की गर्लफ्रेंड थी कवाल ही वो जगह है, जहां 2013 में मुस्‍ल‍िम युवक शाहनवाज और दो हिंदू युवक सचिन और गौरव की हत्‍या के बाद सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे थे।

पुलिस के मुताबिक, 18 जुलाई की रात से ही 16 साल का इरशाद आलम लापता चल रहा था। उसके पिता शकील अहमद ने पुलिस को इस बारे में बताया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अगले दिन जब इरशाद वापस नहीं आया तो कुछ मुस्‍ल‍िम संगठनों के सदस्‍यों के अलावा ग्राम प्रधान ने पुलिस स्‍टेशन का घेराव किया। उन्‍होंने एसएसपी से मुलाकात की। इसके बाद अफसर ने युवक को तलाशने का आदेश दिया। पुलिसवालों ने इरशाद का कॉल रिकॉर्ड खंगाला। उन्‍हें पता चला कि उसकी लास्‍ट लोकेशन उसकी कथित गर्लफ्रेंड के घर के नजदीक थीी। पुलिसवालों ने जब लड़की के घरवालों से पूछताछ की तो लड़की ने कथित तौर पर रोना शुरू कर दिया।

एक पुलिस अफसर ने बताया, ‘हमने लड़की के भाइयों को पूछताछ के लिए पुलिस थाने बुलाया। उन्‍होंने बाद में अपना अपराध कबूल कर लिया। उन्‍होंने बताया कि उन्‍होंने गांव में अपने चाचा के घर के अंदर ही मृतक का शरीर दफना दिया।’ चाचा चंदर सिंह ने पुलिस को बताया कि इरशाद उसकी भतीजी से बातचीत करता था। उन्‍होंने युवक को अपने घर बुलाया ताकि उसे समझाएं कि वह उसकी भतीजी का पीछा छोड़ दे। हालांकि, जब उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया तो गला घोंटकर उसकी हत्‍या कर दी और शरीर को वहीं दफना दिया।

पुलिस के मुताबिक, कॉल रिकॉर्ड्स से पता चला कि इरशाद और लड़की लगातार संपर्क में थे। मुजफ्फरनगर के एसएसपी दीपक कुमार ने बताया, ‘यह पाया गया कि वे रिलेशनशिप में थे। युवक की लड़की के चाचा चंदर, चचेरे भाई मनोज और भाई पवन ने मिलकर हत्‍या कर दी। हमने सेक्‍शन 302 के तहत मामला दर्ज किया है।’ पुलिस के मुताबिक, लड़की के घरवालों की मौत हो चुकी है और वो अपने भाई और अन्‍य परिवारवालों के साथ वहां रह रही थी।

इरशाद की लाश मिलने की खबर फैलते ही सैकड़ों मुस्‍ल‍िम थाने के बाहर इकट्ठे हो गए। बाद में कुछ स्‍थानीय राजनेता भी इस भीड़ में शामिल हो गए। उन्‍होंने मांग कि आरोपियों को उन्‍हें सौंप दिया जाए। एसएसपी ने कहा, ‘कवाल में हालात नियंत्रण में है। कानून-व्‍यवस्‍था कायम रखने के लिए इलाके में पुलिसवाले तैनात कर दिए गए हैं।’ स्‍थानीय थाने के इंस्‍पेक्‍टर को सस्‍पेंड कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X