ताज़ा खबर
 

डैडी ने मारा और गरम चम्‍मच से दाग द‍िया- चार साल की बच्‍ची पर मां और ल‍िव-इन पार्टनर का जुल्‍म

बच्ची ने बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाले स्वयंसेवी संगठन के कार्यकर्ताओं को बताया कि जब मैं खा रही थी तब डैडी ने मुझे जला दिया था। मासूम के ऊपर हुए जुल्मों के बारे में सुनकर कार्यकर्ताओं की आंखें भी नम हो उठीं।

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

तेलंगाना के हैदराबाद में महज चार साल की मासूम बच्ची को पुलिस ने बचाया है। ये बच्ची अपनी मां और उसके लिवइन पार्टनर के साथ रही थी। जब बच्ची को बचाया गया तो उसके शरीर पर कई घाव और जलाने के निशान थे। पुलिस ने जब बच्ची से पूछताछ की तो पता चला कि उसकी मां और प्रेमी मिलकर उसे लोहे की गर्म चम्मच से दागा और नोचा करते थे।

एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, जब बच्ची को बचाने के लिए एक्टिविस्ट उसके पास पहुंचे तो बच्ची ने अपने घर में खुद पर होने वाले हर जुल्म के बारे में उन लोगों को बताया। बच्ची ने बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाले स्वयंसेवी संगठन के कार्यकर्ताओं को बताया कि जब मैं खा रही थी तब डैडी ने मुझे जला दिया था। मासूम के ऊपर हुए जुल्मों के बारे में सुनकर कार्यकर्ताओं की आंखें भी नम हो उठीं। बच्ची ने बताया कि मेरे डैडी ने पहले मुझे मारा और इसके बाद गर्म चम्मच मेरे ऊपर रखकर दबा दिया।”

इस बच्ची की दुर्गति देखकर उसके पड़ोसियों ने एक स्थानीय राजनेता को इसकी सूचना दी। राजनेता ने ही इस संदेश को एक्टिविस्ट अच्युत राव तक पहुंचा दिया। इसके बाद पुलिस ने बच्ची की मां और उसके लिवइन पार्टनर के खिलाफ मामला कायम कर लिया। पुलिस को अपनी पड़ताल में ये पता चला कि बच्ची की मां 25 साल की महिला है। वह अपने पति को छोड़ चुकी थी और फिलहाल दूसरे आदमी के साथ रह रही थी। धीरे-धीरे महिला और नए पार्टनर के बीच भी मतभेद होने लगे। फिर उन्होंने अपना गुस्सा बच्ची पर निकालना शुरू कर दिया।

सामाजिक कार्यकर्ता अच्युत राव ने कहा, हालांकि कई बार बच्चों को बड़ों के बीच समस्या के कारण निशाना बनाया जाता है। जबकि एक महिला को ये अधिकार है कि वह असफल शादी के बाद अपनी जिंदगी में आगे बढ़ जाए। कई बार इसी लापरवाही में बच्चे इसका शिकार हो जाते हैं।” फिलहाल चार साल की उस मासूम सरकार के द्वारा चलाए जाने वाले बाल आश्रय गृह में भेज दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App