ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड के बाद अब हैदराबाद में प्लास्टिक के चावल मिलने के दावे, वायरल हो रहे हैं इसके वीडियो

रिपोर्ट के अनुसार खाद्य आपूर्ति विभाग ने पके हुए चावल और दुकानों में चावल के स्टॉक के नमूने लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेज दिए हैं।

हैदराबाद में कथित तौर पर मिले प्लास्टिक के चावल के वीडियो का स्क्रीनशॉट।

उत्तराखंड के बाद अब हैदराबाद से प्लास्टिक के चावल मिलने की खबरें आ रही हैं। सोशल मीडिया पर कथित तौर पर प्लास्टिक के चावल बाजार में बिकने से जुड़े वीडियो शेयरकिए जा रहे हैं। कई दक्षिण भारतीय चैनलों ने प्लास्टिक के चावल से जुड़ी खबरों चलाईं। कुछ वीडियो में लोगों को कथित प्लास्टिक के चावल की गेंद बनाकर खेलते हुए देखा जा सकता है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार हैदराबाद के चारमीनार, यूसुफगुड़ा, सरूरनगर और मीरपट में पिछले सात दिनों से कथित तौर पर प्लास्टिक के चावल बिक रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार कई लोगों ने अधिकारियों से इन चावल की शिकायत की है। रिपोर्ट के अनुसार खाद्य आपूर्ति विभाग ने पके हुए चावल और दुकानों में चावल के स्टॉक के नमूने लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेज दिए हैं। मीरपट में रहने वाले अशोक ने एनडीटीवी को बताया कि उन्होंने विवादित चावल की गेंद बनाई तो वो रबर की गेंद की तरह उछलने लगी।

अशोक के अनुसार इस चावल को खाने की वजह से उनके परिवार के कुछ सदस्यों की तबीयत कुछ हफ्तों से खराब हो गई। अशोक ने बताया कि उनके परिवार के बच्चों का इस चावल को खाने से पेट खराब हो गया है और डॉक्टर ये समझ नहीं पा रहे हैं कि बीमारी क्या है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार तेलुगु टीवी पत्रकार इंद्रसेन ने भी इस चावल की बिरयानी बनाकर देखी। इंद्रसेन ने ये चावल सरूरनगर से खरीदे थे।

इससे पहले भी देश के अलग-अलग हिस्सों में आम लोग प्लास्टिक के अंडे, गोभी और चीनी मिलने के दावे कर चुके हैं। लोगों का आरोप है कि ये चावल चीन में बने हुए हैं। हैरत की बात ये है कि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जहां आम चावल बाजार में 60 प्रति रुपये किलो बिक रहे हैं वहीं ये कथित प्लास्टिक चावल 70 रुपये प्रति किलो बिक रहे हैं।

देखें-‘प्लास्टिक’ के चावल से जड़े वीडियो और न्यूज-

वीडियो- वनडे इतिहास में 264 रन ठोकने वाले रोहित शर्मा इस बॉलर के आगे हो जाते हैं अपंग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App