ताज़ा खबर
 

VIDEO: ‘घूस लेना आम बात, मंत्री भी जानते हैं’ वायरल हुआ वीडियो तो नगर पालिका अध्यक्ष को देना पड़ा इस्तीफा

तेलंगाना के सिरसिला में नगर पालिका की अध्यक्ष समला पावनि को उनके कथित घूस की बात करने वाले वीडियो के वायरल होने के बाद इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि उनके इस्तीफे को लेकर कहा जा रहा है कि उन्होंने यह कदम निजी कारणों के चलते उठाया।

वायरल वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट।

तेलंगाना के सिरसिला में नगर पालिका की अध्यक्ष समला पावनि को उनके कथित घूस की बात करने वाले वीडियो के वायरल होने के बाद इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि उनके इस्तीफे को लेकर कहा जा रहा है कि उन्होंने यह कदम निजी कारणों के चलते उठाया। इस्तीफा सौंपते हुए उन्होंने मंत्री केटी रामा राव को धन्यवाद बोला। द न्यूज मिनट की खबर के मुताबिक शनिवार (17 मार्च) को समला पवनि ने यह कहते हुए एक बड़े विवाद को हवा दे दी कि तेलंगाना टाउन में नागरिक परियोजनाओं को मंजूरी देने के लिए कमीशन (घूस) लेना आम बात है। इस दौरान उन्होंने एक मंत्री के घूस लेने के संकेत दिए। हालांकि उन्होंने मंत्री का नाम नहीं बताया। उन्होंने कहा कि स्थानीय मीडिया इस बारे में जानती है। उन्होंने कहा कि पार्षद ठेकेदारों से परसेंटेज (घूस) लेते हैं और यह आम प्रक्रिया है। समला का पत्रकारों से बात करने वाला यह वीडियो शनिवार को वायरल हो गया।

समला ने कहा- ”हमारे मंत्री कहते हैं कि हमें (सरकारी अधिकारियों को) कुछ नहीं मिलता है। मैं आपको (पत्रकारों को) ज्ञात तथ्यों को बता रही हूं। अगर वहां एक ठेकेदार है तो 1, 2 या 3 फीसदी कमीशन होता है। इसी पर आधारित अगर वे काम करते हैं और कुछ रिश्वत पार्षद को देते हैं तो सारा काम कर दिया जाता है।” हालांकि बाद में उन्होंने तर्क दिया कि लोगों के काम को पूरा कराने के लिए पार्षद पैसे लेते हैं तो उन पर उंगली नहीं उठाना चाहिए। उन्होंने कहा- ”वे चुनाव के दौरान पार्षद के तौर पर काफी धन खर्च करते हैं। इसलिए ठेकेदारों को कम से कम एक या दो परसेंट देना चाहिए। हम सब अपने वार्डों में घूमते रहते हैं, इसलिए यह ठेकेदारों का कर्तव्य है कि वे हमें धन दें।”

उन्होंने यह भी कहा कि यह केवल सिरसिला का मामला नहीं हैं, राज्य की सभी नगर पालिकाओं में ऐसा होता है। समला पवनि की इस बात को लेकर विपक्षी पार्टियों ने कहा है कि उन्हें उस मंत्री का नाम भी बताना चाहिए, जिसके बारे में वह बात कर रही थीं। विरोधियों ने सिरसिला के विधायक केटी राम राव को भी इस मामले में आड़े हाथों लिया है क्यों कि वह राज्य के नगरपालिका प्रशासन और शहरी विकास मंत्री हैं। विरोधियों ने कहा कि राज्य में जब से तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार बनी है तब से भ्रष्टाचार अनियंत्रित हो गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App