ताज़ा खबर
 

कोरोना काल में स्‍टाफ से नौकरशाहों को आम बंटवा रहे तेलंगाना के अफसर, प्रतिबंधों और कर्मचारियों की किल्‍लत का भी ख्‍याल नहीं

एक तरफ देशभर में राज्य सरकारें लॉकडाउन से बाहर आने और कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने की कोशिश में जुटे हैं, वहीं तेलंगाना के अफसर राज्य परिवहन के कार्गो से आम पहुंचाने में जुटे हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

देशभर में कोरोना के बढ़ते मामलों और लॉकडाउन खोलने के दबाव के बीच अलग-अलग राज्य सरकारें इस वक्त योजनाएं बनाने में जुटी हैं। ताकि अर्थव्यवस्था के साथ जनता को सहूलियतें भी मुहैया कराई जा सकें। जहां दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सरकारें बॉर्डर बंद करने से लेकर अपने कर्मचारियों को दफ्तर में लौटने के लिए कह चुकी हैं, वहीं तेलंगाना सरकार के कर्मचारी इस वक्त केंद्र सरकार के नौकरशाहों को आम पहुंचाने में व्यस्त हैं। इसके लिए राज्य के अफसरों ने सभी नियमों को भी ताक पर रख दिया गया है।

आमतौर पर आम के इस सीजन में कई राज्य अपने अफसरों के जरिए दूसरे राज्य और केंद्र सरकार को आम पहुंचाकर राजनीति के पुल बांधने की कोशिश करते हैं। हालांकि, दिल्ली में इस वक्त तेलंगाना के विशेष ‘बांगिनापल्ली आम’ अधिकारियों के घरों तक पहुंचाए जा रहे हैं। इनके लिए परिवहन सेवाओं का इंतजाम कोई और नहीं खुद दिल्ली में तेलंगाना भवन के दो अफसर कर रहे हैं। तेलंगाना परिवहन की ओर से मुहैया कराए गए वाहनों के जरिए वे आम के 1000 बॉक्सों को दिल्ली पहुंचाने और उन्हें बंटवाने में व्यस्त हैं वह भी सारे प्रतिबंधों को ताक पर रखकर।

कोरोना से भारत में क्या हैं हाल, क्लिक कर जानें…

यहां तक की इसके लिए अफसर अपने बचे-खुचे स्टाफ का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। यह कर्मी अब दिन भर केंद्र सरकार के दफ्तरों के में वरिष्ठ नौकरशाहों तक आम पहुंचाने के लिए मजबूर हैं। खास बात यह है कि इन आमों को पहुंचाने का श्रेय भी अफसर ही ले रहे हैं। इनमें न तो तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और न ही तेलंगाना सरकार को क्रेडिट दिया गया है।

स्टाफ के लिए ज्यादा गुस्सा होने की एक वजह यह है कि आम बंटवाने के लिए तेलंगाना के दो नौकरशाहों ने दिल्ली में फंसे राज्य के लोगों तक की समस्या को कुछ समय के लिए नजरअंदाज कर दिया, ताकि आमों को बांटने की प्रक्रिया की निगरानी हो सके। हालांकि, इसके बावजूद कई अन्य नौकरशाह, जिन्हें आम भिजवाए गए उन्होंने बॉक्सों को कुछ समय के लिए अपने कॉरिडोर में ही छोड़ दिया, ताकि इन्फेक्शन का खतरा पैदा न हो।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories