ताज़ा खबर
 

तेलंगाना में कैदियों के लिए जेल में बन रहा ओपन जिम, राज्य में होगी अपनी तरह की पहली फिटनेस सुविधा

तेलंगाना में संगारेड्डी जेल के कैदियों के शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए एक खुला जिम स्थापित किया जा रहा है। बता दें कैदियों के सुधार एवं पुनर्वास के लिए शुरू की गई राज्य में अपनी तरह की पहली फिटनेस सुविधा होगी।

Author हैदराबाद | June 16, 2019 1:50 PM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- फाइनेंशियल एक्सप्रेस

एफएम रेडियो सेवा के माध्यम से जेल के कैदियों को मनोरंजन प्रदान करने के बाद, अब तेलंगाना कारागार विभाग संगारेड्डी जिला कारागार में कैदियों के शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए एक खुला जिम स्थापित कर रहा है।कारागार विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कैदियों के सुधार एवं पुनर्वास के लिए शुरू की गई पहल के तहत यह व्यायामशाला, राज्य में अपनी तरह की पहली फिटनेस सुविधा होगी। यह पहल सलाखों के पीछे रह रहे कैदियों की शारीरिक तंदुरुस्ती के लिए एक उपयोगी कार्यक्रम के तौर पर भी काम करेगी।

सार्वजनिक पार्कों में खुले जिमः संगारेड्डी जिला कारागार के अधीक्षक नवाब शिव कुमार गौड़ ने फोन पर पीटीआई को बताया, ‘तेलंगाना में कई नगरपालिकाओं ने सार्वजनिक पार्कों में खुले जिम शुरू किए गए हैं। हमने सोचा कि क्यों न इसे जेलों में भी शुरू किया जाए? शारीरिक व्यायाम के प्रति कैदियों को प्रेरित करने के लिए यह कदम उठाया गया है।’

National Hindi News, 15 JUNE 2019 LIVE Updates: दिन भर की खबरें जानने के लिए यहां क्लिक करें

मॉडल जेलों में से एकः  संगारेड्डी जिला कारागार के अधीक्षक ने बताया कि जेल में रह रहे 240 कैदी पहले से ही योग, शारीरिक प्रशिक्षण और परेड गतिविधियों में भाग लेते रहे हैं। गौड़ ने कहा कि संगारेड्डी जिला जेल भारत की मॉडल जेलों में से एक है, जिसे मॉडल जेल मैनुअल के अनुसार बनाया गया है। बता दें देश में कई ऐसी जेलें हैं जहां कैदियों के सुधार के लिए टैलेंट क्लासेस, खेल स्टेडियम और पुस्तकालय जैसी कई सुविधाएं मौजूद हैं। देश की राजधानी दिल्ली के तिहाड़ जेल में कैदियों को काम के अलावा तरह-तरह के खेल खिलाए जाते हैं। यही नहीं खेलों से संबंधित फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है। वहीं इलाहाबाद की नैनी जेल में कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए ऑर्गेनिक खेती का काम सिखाया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App