scorecardresearch

तेलंगाना में लगा कांग्रेस को बड़ा झटका! श्रवण दसोजू ने स्वीकारा BJP का ऑफर, हुए शामिल

तेलंगाना कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक, अभी कुछ नेता और विधायक पार्टी छोड़ सकते है। यह नेता भाजपा में शामिल होते हैं तो विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर असर पड़ेगा।

तेलंगाना में लगा कांग्रेस को बड़ा झटका! श्रवण दसोजू ने स्वीकारा BJP का ऑफर, हुए शामिल
दसोजू श्रवण बीजेपी में शामिल (photo source- twitter/@bandisanjay_bjp)

तेलंगाना में कांग्रेस को लगातार झटके लग रहे हैं। पार्टी और विधायक पद से इस्तीफा देने वाले कोमटीरेडी राजगोपाल के बाद अब AICC के पूर्व प्रवक्ता और कांग्रेस नेता श्रवण दसोजू ने भी पार्टी से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है। जिसके बाद अब वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं।

तेलंगाना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्रवण दसोजू शुक्रवार को कांग्रेस पार्टी छोड़ने के बाद रविवार (7 अगस्त) को भाजपा में शामिल हो गए। वह केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी और तेलंगाना के भाजपा प्रभारी तरुण चुग की उपस्थिति में पार्टी में शामिल हुए। श्रवण ने कांग्रेस छोड़ने के पीछे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रेवंत रेड्डी की कार्यशैली को जिम्मेदार ठहराया है। उनका इस्तीफा मुनुगोड़े के विधायक कोमातीरेड्डी राजगोपाल रेड्डी के पार्टी छोड़ने के कुछ ही दिनों बाद आया है।

राजगोपाल रेड्डी ने भी दिया था इस्तीफा: गौरतलब है कि मुनूगोडू से कांग्रेस विधायक कोमातिरेड्डी राजगोपाल रेड्डी ने भी इस हफ्ते की शुरुआत में कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने उन्हें बातचीत करने के लिए दिल्ली बुलाया था लेकिन उन्होंने निमंत्रण स्वीकार नहीं किया था। इसके बाद उन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। चर्चा है कि वे भी बीजेपी जॉइन कर सकते हैं।

कई नेता हो सकते हैं बीजेपी में शामिल: श्रवण के भाजपा में शामिल होने के बाद, तेलंगाना भाजपा प्रभारी तरुण चुग ने कहा कि कांग्रेस के नेताओं की एक लंबी सूची है जो जल्द ही भाजपा में शामिल होंगे। इस बीच, सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) और कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा उनके नेताओं को कांट्रैक्ट और पैसे का लालच दे रही है।

इससे पहले तेलंगाना बीजेपी के प्रवक्ता नटराजू वेंकट सुभाष ने भी 2 अगस्त को दावा किया था कि कांग्रेस और टीआरएस के कई विधायक आने वाले दिनों में बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा था कि टीआरएस के विधायक अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाने से डर रहे हैं क्योंकि केसीआर ने उनसे झूठे वादे किए हैं। करीब 15 से 18 टीआरएस विधायक और कांग्रेस के 5 विधायक अपनी मर्जी से बीजेपी में शामिल होंगे। वेंकट सुभाष ने यह भी दावा किया कि राज्य में कई सीटों पर उपचुनाव हो सकते हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट