ताज़ा खबर
 

तेजस्वी के आंख, नाक और कान कहे जाते हैं ये सिपाहसलार, Bihar Elections में RJD के लिए दिखाया कमाल!

पिता लालू यादव की गैरमौजूदगी में तेजस्वी ने इस बार चुनावों में खूब पसीना बहाया और एग्जिट पोल में उनकी ये मेहनत रंग लाती भी दिख रही है। तेजस्वी की इस सफलता के पीछे उन नेताओं की भूमिका अहम रही, जिन्हें तेजस्वी यादव का नाक, कान और आंख माना जाता है।

bihar election, mahagathbandhan, RDJ win, tejaswi yadav, lalu prasad yadav, bihar election 2020, rjd victoryBihar election: एग्ज़िट पोल में महागठबंधन की सरकार बनते दिख रही है। (file)

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आने में बस एक दिन बचा है। एग्ज़िट पोल में महागठबंधन की सरकार बनते दिख रही है। ऐसे में बिहार के अगले मुख्यमंत्री राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव हो सकते है। पिता लालू यादव की गैरमौजूदगी में तेजस्वी ने इस बार चुनावों में खूब पसीना बहाया और एग्जिट पोल में उनकी ये मेहनत रंग लाती भी दिख रही है। तेजस्वी की इस सफलता के पीछे उन नेताओं की भूमिका अहम रही, जिन्हें तेजस्वी यादव का नाक, कान और आंख माना जाता है।

आरजेडी के कई नेताओं ने तेजस्वी को आगे बढ़ने में मदद की। इन नेताओं ने रणनीति से लेकर प्रत्याशियों के चयन तक हर तरह से तेजस्वी के लिए चुनावी मैदान तैयार किया। इन नेताओं में सबसे पहला नाम जगदानंद सिंह का आता है। 74 साल के जगदानंद सिंह लालू प्रसाद यादव के सबसे करीबियों में से एक हैं। आरजेडी के संस्थापक सदस्य के साथ-साथ मौजूदा समय में बिहार में पार्टी की कमान उन्हीं के हाथों में है। सिंह का सियासत में अनुभव बहुत गहरा है और उनके फैसले इतने तार्किक और सटीक होते हैं कि उन पर किसी आम नेता या कार्यकर्ता के लिए बहस करना मुश्किल हो जाता है।

तेजस्वी को महागठबंधन की ओर से सीएम पद का का चेहरा बनाने की घोषणा भी जगदानंद सिंह ने की थी। इतना ही नहीं महागठबंधन में वाम दलों को शामिल करने का निर्णय भी जगदानंद सिंह का ही था। प्रत्याशियों के चयन में भी इस दिग्गज नेता ने अहम भूमिका निभाई है। इस कड़ी में दूसरा नाम आरजेडी के राज्‍यसभा सांसद मनोज झा का आता है।

इस चुनाव में सभी राजनतीकि रणनीतियाँ झा ने ही बनाई थी। इस रणनीतियों पर काम करते हुए तेजस्वी ने मतदाताओं का भरोसा जीता है। झा राजनीतिक अर्थशास्त्र, सामाजिक आंदोलन, सांप्रदायिक संबंध और तनाव के विषय पर अपनी राय रखने के लिए देश भर में जाने जाते हैं। जगदानंद सिंह और मनोज झा के अलावा संजय यादव ने भी इस चुनाव में अहम भूमिका निभाई है।

संजय यादव तेजस्वी के राजनीतिक सलाहकार हैं। वे तेजस्वी के साथ साय की तरह रहते हैं। इस चुनाव में आरजेडी और तेजस्वी के सोशल मीडिया अकाउंट से लेकर उनकी रैलियों की रूप रेखा तक सब कुछ संजय देखते थे। सजाय तेजस्वी को उनके क्रिकेट के दिनों से जानते हैं।

इसके अलावा आरजेडी महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष डॉ. उर्मिला ठाकुर ने महिलाओं के बीच आरजेडी के लिए जगह बनाने में अहम भूमिका निभाई है। इसके अलावा आरजेडी के युवा नौकरी संवाद के मंच पर तेजस्वी के साथ मजबूती से उर्मिला ठाकुर खड़ी रही हैं। नीतीश कुमार के अतिपिछड़ा वोटबैंक में सेंधमारी में आरजेडी की ओर से प्रो. रामबली सिंह चंद्रवंशी ने अहम भूमिका रनिभाई है।

बिहार चुनाव के ऐलान से पहले प्रो रामबली चंद्रवंशी ने प्रदेश भर में घूम घूमकर अतिपिछड़ा सम्मेलन करके माहौल बनाने का काम किया है, जिसके जरिए बिहार के 127 जातियों के बीच पहुंचे और इस चुनाव में आरजेडी के जबरदस्त फायदा मिलता दिख रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिवाली के मद्देनजर दिल्ली-NCR में पटाखों की ब्रिक्री-यूज पर 30 नवंबर तक NGT का बैन; हरियाणा में 2 घंटे की छूट, मुंबई में BMC लाई नए नियम
2 बिहार चुनाव: यहां चूहा भी बांध तोड़ देता और शराब पी जाता है, स्ट्रॉंग रूम में चूहा भी ना घुसने पाए- राजद ने कार्यकर्ताओं को किया अलर्ट
3 बिहार चुनाव: एग्ज़िट पोल नतीजों के बाद बीजेपी में खलबली, कांग्रेस ने फिर सुरजेवाला को भेजा पटना
यह पढ़ा क्या?
X