ताज़ा खबर
 

तेजस्वी ने बिहार को बताया मॉब लिंचिंग का हब, नीतीश को कहा- आखिर इतना लाचार कैसे हो सकते हैं?

राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में चहुंओर अराजकता का माहौल है। अपहरण, बलात्कार, हत्या, लूट, मॉब लिंचिंग से हाहाकार मचा हुआ है। कानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है।

राजद के नेता तेजस्वी यादव (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र और बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर नीतीश सरकार पर निशाना साधा है। बिहार को मॉब लिंचिंग का हब बताते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आखिर इतना लाचार कैसे हो सकते हैं। चारो तरफ अराजकता का व भ्रष्टाचार का माहौल है। कानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है। बिहार में डरावने दिन अा गए हैं। सीएम नीतीश कुमार डबल इंजन की बुलेट ट्रेन में बैठकर सुस्त व लाचार दिख रहे हैं। तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया, “बिहार मॉब लिंचिंग का हब बन गया है। बेगूसराय में भीड़ ने 3 व्यक्तियों की पीटकर हत्या कर दी। रोहतास में दलित महिला की पीटकर हत्या कर दी गई। हाजीपुर में दारोग तो जहानाबाद में एएसपी पर हमला किया गया। सासाराम में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया। आखिर ये क्या हो रहा है बिहार में? जिस मुख्यमंत्री में लोकशर्म ही नहीं बची हो उसे क्या कुछ कहें?”

तेजस्वी ने एक और ट्वीट कर कहा, “बिहार में चहुंओर अराजकता का माहौल है। अपहरण, बलात्कार, हत्या, लूट, मॉब लिंचिंग से हाहाकार मचा हुआ है। कानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है। प्रखंड से लेकर मुख्यमंत्री सचिवालय तक भ्रष्टाचार का बोलबाला है। सरकारी कार्यालयों में विशेष आरसीपी टैक्स चुकाये बिना आप पैर भी नहीं रख सकते।”

राजद नेता ने कहा कि, “हमें ही शर्म आने लगी है आखिर मुख्यमंत्री नीतीश जी बीजेपी की डबल इंजन वाली बुलेट ट्रेन में बैठकर भी इतने सुस्त, लाचार, बेबस और असहाय क्यों है? 11 करोड़ बिहारवासियों के जनविश्वास का क़त्ल कर बीजेपी को सत्ता सौंपने वाला व्यक्ति आखिर इतना लाचार कैसे हो सकता है? क्या बिहार को ये डरावने दिन दिखाने के लिए ही नीतीश कुमार जी दिन-दहाड़े बीजेपी के साथ भागे थे। अगर मैं ग़लत था और उन्हें अपने चेहरे पर इतना गुमान था तो विधानसभा भंग कर चुनाव में जाते। मुख्यमंत्री जी, जनादेश अपमान के एवज में भाजपा के साथ हुई अपनी गुप्त डील को सार्वजनिक करें।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App