ताज़ा खबर
 

तेज प्रताप बोले- नीतीश कुमार से हैं व्यक्तिगत संबंध, पारिवारिक मामलों पर भी तोड़ी चुप्पी

लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने नीतीश कुमार से संबंधों को लेकर बड़ा बयान दिया है। साथ ही उन्होंने यह भी माना कि वे अपने पिता की नकल करते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नहीं।

तेजप्रताप यादव (File Photo : PTI)

बिहार की सियासत में पिछले दिनों जबर्दस्त तूफान मचा चुके आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने अब एक बड़ा बयान दिया है। तेजप्रताप ने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके अच्छे व्यक्तिगत संबंध हैं और उन्हीं ने उन्हें सरकारी बंगला भी दिलाया है। इस दौरान तेजप्रताप ने अपने सियासी और पारिवारिक संबंधों को लेकर भी कई अहम खुलासे किए।

बंगले को लेकर मचा था बवाल

पिछले दिनों खबर आई थी पटना में सरकारी बंगला न मिलने के चलते वे परेशान थे। इस दौरान वे वृंदावन से पटना आने के बावजूद अपने घर नहीं गए। लेकिन अब उन्होंने नीतीश कुमार की मदद से बंगला मिलने की बात कही है। पत्नी ऐश्वर्या से तलाक की मांग पर परिवार का समर्थन न मिलने के चलते इन दिनों वे परिवार से भी अलग ही रह रहे हैं। खरमास खत्म होने के बाद वे नए बंगले में शिफ्ट हो सकते हैं।

लालू सियासी गुरु, मोदी की नहीं करते नकल

तेजप्रताप ने अपने सियासत और भाषण के अंदाज को लेकर कहा कि उनके पिता लालू प्रसाद यादव उनके सियासी गुरु हैं और वे उन्हीं की नकल करते हैं। उन्होंने यह भी साफ किया वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नकल नहीं करते हैं। पिछले दिनों वे लालू यादव के दफ्तर में बैठने को लेकर भी चर्चाओं में आए थे। हालांकि उन्होंने साफ किया था कि वे उनके दफ्तर में जरूर बैठते हैं लेकिन उनकी कुर्सी पर नहीं।

पारिवारिक संबंधों पर भी बोले तेजप्रताप

बीते दिनों एक धरने के दौरान तेजप्रताप के मामा साधु यादव उनके साथ दिखे थे। इसे लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि वे मामा के कहने पर ही वृंदावन से वापस पटना की सियासत में लौट आए हैं। लेकिन तेजप्रताप ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि सियासत में लौटना उनका अपना फैसला है। वे किसी के कहने पर सियासत में सक्रिय नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वे किसी मामा-चाचा या मौसा-मौसी की नहीं सुनते। भाई तेजस्वी के साथ संबंधों को लेकर भी उन्होंने बयान दिया। तेजप्रताप ने खुद को कृष्ण और तेजस्वी को अर्जुन बताते हुए कहा कि वे दोनों साथ हैं। दोनों के बीच दरार पैदा करने की कोशिश नाकाम रहेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App