ताज़ा खबर
 

अपनी ही सरकार पर भड़के कांग्रेसी मंत्री, पूछा- 28 लॉ अफसरों की लिस्ट में क्यों नहीं एक भी दलित

इससे पहले भी जब 121 लॉ अधिकारियों की नियुक्ती की गई थी, उस वक्त भी चन्नी ने कैबिनेट के सामने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। चन्नी का कहना था कि उस वक्त भी केवल 5 ही दलित अधिकारी थे।

पंजाब के तकनीकी शिक्षा और रोजगार उत्पादन मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

पंजाब के तकनीकी शिक्षा और रोजगार उत्पादन मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शुक्रवार को अपनी ही सरकार के सामने बड़ा सवाल खड़ा कर दिया। पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में मंत्री चन्नी ने 28 लॉ अधिकारियों की लिस्ट को लेकर सवाल किया कि उसमें एक भी दलित का नाम क्यों नहीं है। रिपोर्ट्स के मुताबिक 28 लॉ अफसरों की लिस्ट में महज एक पिछड़ा वर्ग का अधिकारी है और बाकी सभी सामान्य वर्ग से हैं। चन्नी ने इस मामले पर सवाल किया, ‘कांग्रेस अपनी विचारधारा भूलते जा रही है और सरकार घोषणापत्र में किए गए अपने वादे भूलते जा रही है।’

जब कैबिनेट के सामने पंजाब लॉ अफसर्स एक्ट 2017 लाया गया था तब चन्नी ने दलितों के लिए आरक्षण की बात कही थी। हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक चन्नी ने कहा, ‘उस वक्त इस बात पर सहमति हुई थी कि पंजाब अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग (रिजर्वेशन इन सर्विसेज) एक्ट, 2006, में एक प्रावधान किया जाएगा, जिसके तहत सभी सरकारी नियुक्तियों में 30 फीसदी पदों को एससी के लिए आरक्षित किया जाएगा, लेकिन उस बिल पर किसी तरह का काम नहीं किया गया। वह बिल एससी और ओबीसी कल्याण विभाग के पास लंबित है। यह बहुत ही दुर्भाग्य की बात है कि इस समुदाय को लोग नजरअंदाज कर रहे हैं।’

इससे पहले भी जब 121 लॉ अधिकारियों की नियुक्ती की गई थी, उस वक्त भी चन्नी ने कैबिनेट के सामने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। चन्नी का कहना था कि उस वक्त भी केवल 5 ही दलित अधिकारी थे। इसके अलावा उन्होंने इस मामले को लेकर पिछले महीने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात की थी। आपको बता दें कि प्रतिशत के आधार पर पंजाब में सबसे ज्यादा दलितों की संख्या है। पंजाब में कांग्रेस के 77 विधायकों में से 33 एससी और ओबीसी हैं। चन्नी खुद पंजाब की रविदासिया समुदाय से संबंध रखते हैं। रविदासिया समुदाय पंजाब के दलितों में सबसे बड़ा समुदाय है। चेन्नी को कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में साल 2017 में मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App