ताज़ा खबर
 

113 साल की उम्र में भागलपुर की तारा देवी का निधन

पेशे से तारा देवी के बेटे व परिवार वाले कपड़ा धोने का काम करते है। आर्थिक हालत कमजोर होने के बाबजूद इन्होंने जीवन संघर्षपूर्ण मगर हौसले के साथ जिया।

तारा संतु देवी।

भागलपुर के लहेरीटोला की रहने वाली तारा संतु देवी का 113 साल की उम्र में बुधवार को निधन हुआ। हौसले की बात यह है सेंचुरी पार यह महिला इस उम्र में भी किसी पर निर्भर नहीं थी। और अपने काम के अलावे घर के दूसरे काम निपटाने में भी हाथ बटाती थी। वह अपने परिजनों को कभी भी अपनी इतनी उम्र का अहसास नहीं होने दिया। उनके बगलगीर साहित्यकार पारस कुंज बताते है कि तारा देवी को अक्सर कुछ न कुछ करते देखते थे। इनकी दुकान स्टेशन चौक पर है। दुकान जाने आने के रास्ते में तारा देवी का घर पड़ता था। पेशे से तारा देवी के बेटे व परिवार वाले कपड़ा धोने का काम करते है। आर्थिक हालत कमजोर होने के बाबजूद इन्होंने जीवन संघर्षपूर्ण मगर हौसले के साथ जिया।

उनके इकलौते बेटे राधे संतु रजक ने बताया कि तारा देवी का निधन बुधवार को दोपहर हुआ। उनकी अंतिम यात्रा गुरुवार को निकलेगी। वे अपने पीछे चार बेटियां और सात पौत्र पौत्री समेत भरा पूरा परिवार छोड़ गई है। यह भी सच है कि आज के मिलावटी खान पान के दौर में 113 साल की उम्र तक जीवित रहने का सौभाग्य बिरले को ही मिलता है। उन्हीं में से तारा देवी एक थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App