ताज़ा खबर
 

तमिलनाडु: ओ पन्‍नीरसेल्‍वम के नेतृत्‍व में अन्‍नाद्रमुक के धड़ों में विलय की चर्चा, शशिकला-दिनाकरण की हो सकती है छुट्टी

विधायकों का कहना है कि शशिकला और उनके भतीजे टीटीवी दिनाकरण को पार्टी के सभी पदों को छोड़ देना चाहिए।

AIADMK, aiadmk merger, o pannerselvam, sasikala, TTV dinakaran, tamilnadu politics, AIADMK MLAs, AIADMK news, tamilnadu newsतमिलनाडु में अन्‍नाद्रमुक के दो विरोधी खेमों में सुलह के आसार बनते दिखाई दिए हैं।

तमिलनाडु में सोमवार (17 अप्रैल) रात को अन्‍नाद्रमुक के दो विरोधी खेमों में सुलह के आसार बनते दिखाई दिए हैं। शशिकला कैंप के कई विधायकों ने ओ पन्‍नीरसेल्‍वम वाले दल के साथ सुलह के प्रस्‍ताव को समर्थन किया। मंत्रियों ने विरोधी गुट के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम के विलय संबंधी प्रस्ताव का स्वागत किया और इस प्रस्ताव पर आगे बढ़ने का फैसला किया। यह बैठक बिजली मंत्री के. थंगामणि के आधिकारिक आवास पर हुई।

बैठक से बाहर आते हुए वित्त मंत्री डी जयकुमार ने कहा कि दीनाकरन और पनीरसेल्वम के नेतृत्व वाले धड़ों के विलय का रास्ता का साफ करने करने के तौर-तरीकों को लेकर काम चल रहा है। पार्टी सूत्रों ने कहा कि बैठक में स्वास्थ्य मंत्री यी विजय भास्कर भी शामिल हुए जो आयकर विभाग की जांच के घेरे में हैं। मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी इस बैठक में शामिल नहीं हुए। विजय भास्कर का इस बैठक में शामिल होना महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी अटकल थी कि कुछ वरिष्ठ मंत्रियों ने उनके इस्तीफे की मांग की है।

पन्‍नीरसेल्‍वम की ओर से भी कहा गया कि जल्‍द ही दोनों खेमे एक हो सकते हैं। विधायकों का कहना है कि शशिकला और उनके भतीजे टीटीवी दिनाकरण को पार्टी के सभी पदों को छोड़ देना चाहिए। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शशिकला और दिनाकरण को पार्टी से बाहर किया जा सकता है। 17 अप्रैल की रात को 25 मंत्रियों और विधायकों के बीच पन्‍नीरसेल्‍वम के गुट के साथ मिलने को लेकर चर्चा हुर्इ। दिनाकरण अन्‍नाद्रमुक के चुनाव चिह्न को लेकर चुनाव आयोग के अधिकारियों को घूस की पेशकश के मामले में घिरते दिख रहे हैं। पुलिस ने उन पर मामला दर्ज किया है। इस मामले में एक बिचौलिए सुकेश चंद्रशेखरन की गिरफ्तारी के बाद दिनाकरण का नाम आया है।

बता दें कि अन्‍नाद्रमुक के दो धड़ों में बंटने के बाद आरके नगर उपचुनाव से पहले चुनाव आयोग ने इस निशान को जब्‍त कर लिया था। हालांकि उपुचनाव से पहले मतदाताओं को पैसे बांटे जाने की खबरें सामने आने के बाद आयोग ने यहां पर चुनाव भी रद्द कर दिया था। जयललिता के निधन के बाद उनकी करीबी शशिकला ने मुख्‍यमंत्री पद पर दावेदारी जताई थी। इसका ओ पन्‍नीरसेल्‍वम ने विरोध किया। जयललिता के पद छोड़ने पर पन्‍नीरसेल्‍वम ही मुख्‍यमंत्री बनते रहे थे। दावेदारी को लेकर अन्‍नाद्रमुक में दो धड़े बन गए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गोतस्करी के शक में मार डाले गए पहलू खान के रिश्तेदार बोले- इंसाफ नहीं मिला तो कर लेंगे आत्मदाह
2 लड़कियों ने भी बरसाए पुलिस पर पत्थर, आज पूरी कश्मीर घाटी में स्कूल-कॉलेज बंद
3 राजस्थान यूनिवर्सिटी में लीक हुआ पेपर, पूर्व प्रोफेसर सहित 9 लोग हुए गिरफ्तार
IPL 2020
X