ताज़ा खबर
 

तमिलनाडु: पटाखे फोड़ने के लिए स्कूल ने दी स्टूडेंट्स को सजा?

सितुरमन ने आरोप लगाया कि उसके बेटे से पांच बार उठक-बैठक लगवाया गया।

Author पलाक्कारी | October 24, 2017 15:06 pm
दिवाली पर पटाखे जलाते लोग। (File Photo)

दीवाली के मौके पर पटाखे फोड़ने पर तमिलनाडु के एक स्कूल द्वारा छात्रों को सजा देने का मामला सामने आया है। यह घटना क्रिश्चियन माइनोरिटी इंस्टीट्यूशन के सर्वाइट मैटरीक्यूलेशन स्कूल की है। शुक्रवार को दीवाली की छुट्टी के बाद स्कूल खुले तो सुबह की प्रार्थना के बाद स्कूल की हेड ने बच्चों से पूछा कि कितने छात्रों ने त्योहार पर पटाखे फोड़े। सात बच्चों ने बहुत ही मासूमियत के साथ हाथ खड़े कर दिए। उन्हें क्या पता था अगर वे पटाखे फोड़ने वाली बात स्वीकार करते हैं तो उन्हें सजा दी जा सकती है। बच्चों के परिजनों द्वारा लगाए गए आरोपों के अनुसार जिन्होंने पटाखे नहीं फोड़े उन्हें इनाम दिया गया था और जिन्होंने पटाखे फोड़ने की बात मानी उन्हे हाथ जोड़कर भगवान से मांफी मांगने के लिए कहा गया।

एक बच्चे के परिजन ने आरोप लगाया है कि उसकी बेटी ने हाथ में महंदी लगाई थी इसलिए उसकी फिजिक्ल टीचर ने स्केल से उसकी पिटाई कर दी। 47 वर्षीय स्थानीय बिजनसमैन सितुरमन ने कहा कि जब मेरे बेटे ने मुझे इस घटना के बारे में बताया तो मैं हैरान रह गया। मेरा बेटा भी उन बच्चों में से एक था जिन्होंने असेंबली के दौरान पटाखे फोड़ने के लिए हाथ उठाया था। सितुरमन ने आरोप लगाया कि उसके बेटे से पांच बार उठक-बैठक लगवाया गया। इस घटना की जानकारी मिलने के बाद मैं और अन्य बच्चों के परिजन स्कूल प्रशासन से जवाब मांगने पहुंचे तो स्कूल की हेड ने उनसे कहा कि वह केवल चीफ एडुकेशन ऑफिसर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन कर रही थी। इतना ही नहीं उसने घटना की मांफी मांगने से भी साफ इनकार कर दिया।

स्कूल प्रशासन के इस रवैये से गुस्साए परिजन पुलिस स्टेशन पहुंचे और उन्होंने स्कूल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। सितुरमन ने कहा कि हम इस स्कूल में अपने बच्चों को इसलिए भेजते हैं क्योंकि यह हमारे घर से पास है, लेकिन स्कूल प्रशासन धीरे-धीरे हमारे बच्चों को उनके धर्म के खिलाफ भड़काने का काम कर रहा है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App