ताज़ा खबर
 

यह दलित समूह लड़ रहा अनूठी लड़ाई- एससी, एसटी सूची से बाहर होना चाहता है

देवेंद्र कुला वेल्लार जाति से संबंध रखने वाले इस समूह में करीब 1 लाख से ज्यादा सदस्य हैं। सदस्यों का कहना है कि आगामी 6 मई को वो अपनी मांगों को लेकर पुठिया तमिलगाम पार्टी के बैनर तले प्रदर्शन करेंगे।

Author Updated: May 2, 2018 8:43 PM
पुठिया तमिलगाम पार्टी के नेता के कृष्णासामी Photo Source – Twitter

देश में दलितों का एक समूह ऐसा भी है जो अनुसूचित जाति/जनजाति की सूची से बाहर आना चाहता है। तमिलनाडु से संबंधित इस दलित समूह के सदस्यों का कहना है कि आरक्षण एक धब्बे की तरह हो गया है। इस दाग की वजह से उन्हें समाज से निष्कासन का दंश झेलना पड़ता है। इन लोगों का कहना है कि दलितों को सिर्फ वोट बैंक की तरह ही देखा जाता है। इस समूह के सदस्यों का कहना है कि अब वो इसे बदलना चाहते हैं और पिछड़ी जाति की सूची से खुद को बाहर करना चाहते हैं।

देवेंद्र कुला वेल्लार जाति से संबंध रखने वाले इस समूह में करीब 1 लाख से ज्यादा सदस्य हैं। सदस्यों का कहना है कि आगामी 6 मई को वो अपनी मांगों को लेकर पुठिया तमिलगाम पार्टी के बैनर तले प्रदर्शन करेंगे। पार्टी के सदस्य विरधुनगर में जमा होंगे और अनुसूचित जाति से खुद को अलग किये जाने की मांग रखेंगे। पुठिया तमिलगाम पार्टी के नेता के कृष्णास्वामी का कहना है कि समाज में देवेंद्र कुला वेल्लार समूह के लोगों के साथ अछूत की तरह व्यवहार किया जाता है, क्योंकि वो अनुसुचित जाति की सूची में आते हैं। इसीलिए वो अपनी इस पहचान को छोड़ना चाहते हैं।

पुठिया तमिलगाम पार्टी के नेता के कृष्णास्वामी ने वो पिछले ही साल मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था कि राज्य में डीएमके और एआईडीएमके दोनों ही सरकारों ने अब तक देवेंद्र कुला वेल्लार जाति के लोगों के अधिकारों को दबाया है। उन्होंने दोनों ही पार्टियों पर चुनाव के लिए इस समूह का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था।

आरक्षण को लेकर देश में कई दलित संगठन इस वक्त केंद्र सरकार से नाराज हैं। देश की अलग-अलग सरकार पर अब तक यह आरोप लगते रहे हैं कि वो संविधान में एससी/एसटी को मिले आरक्षण के नियमों से छेड़छाड़ करती है। ऐसे में एक दलित समूह का यह कहना कि वो खुद को अनुसूचित जाति की सूची से बाहर करना चाहते हैं वाकई चौंकाने वाला है। आपको याद दिला दें कि कुछ ही दिन दलित संगठनों ने एससी/एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के खिलाफ नाराजगी जताते हुए भारत बंद भी किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 20 रुपये के नोट हाथों में लेकर टीटीवी दिनाकरण के पीछे पड़ी महिलाएं, जानिए क्‍यों
2 तमिलनाडु: कॉलेज से लौट रही लड़की का सरेआम गला रेता, मौत से जंग जारी
3 दक्षिण के दो क्षत्रप मिले, केले के पत्ते पर साथ खाया भोज, ममता बनर्जी को फोन कर पूछा- दीदी साथ देंगी ना?