ताज़ा खबर
 

तमिलनाडु: 20 साल पहले की थी पत्‍थरबाजी, मंत्री को अब हुई 3 साल जेल की सजा

सांसदों-विधायकों से जुड़े मामलों की विशेष न्यायाधीश जे शांति ने 1998 के मामले में युवा कल्याण एवं खेल मंत्री रेड्डी को दोषी ठहराया। रेड्डी उस समय भाजपा के सदस्य थे।

Author Updated: January 8, 2019 8:30 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Image Source: pixabay)

एक विशेष अदालत ने होसूर में अवैध शराब के खिलाफ प्रदर्शन से संबंधित दो दशक पुराने दंगा मामले में सोमवार को यहां तमिलनाडु के मंत्री बालकृष्ण रेड्डी को तीन साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। सांसदों-विधायकों से जुड़े मामलों की विशेष न्यायाधीश जे शांति ने 1998 के मामले में युवा कल्याण एवं खेल मंत्री रेड्डी को दोषी ठहराया।

रेड्डी उस समय भाजपा के सदस्य थे। हालांकि न्यायाधीश ने मंत्री के वकील के वकील का अनुरोध स्वीकार करते हुए उनकी सजा पर रोक लगा दी ताकि वह मद्रास उच्च न्यायालय में अपील दायर कर सकें। विधानसभा में होसूर सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले रेड्डी के अलावा अदालत ने इस मामले के 15 अन्य आरोपियों को तीन तीन साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। मंत्री सहित सभी आरोपी अदालत में मौजूद थे।

अदालत के बाहर संवाददाताओं से बात करते हुए मंत्री ने कहा कि वह मंगलवार को उच्च न्यायालय में अपील दायर करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘वर्ष 1998 में 30 से अधिक लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई थी। इसके बाद सड़क यातायात अवरुद्ध किया गया था और इस संबंध में मामला दर्ज किया गया था।’’ घटना के समय भाजपा के सदस्य रहे रेड्डी बाद में अन्नाद्रमुक में शामिल हो गये थे।

बता दें कि तमिलनाडु में अभी के पलानीस्वामी मुख्यमंत्री हैं। तमिलनाडू के मुख्यमंत्री के रूप में जब पलानीस्वामी ने शपथ ली थी, उसी समय 30 अन्य मंत्रियों को भी शपथ दिलवाई गई थी। पी. बालकृष्ण रेड्डी भी उन 30 लोगों में शामिल थे। रेड्डी को पशु कल्याण मंत्रालय की जिम्मेवारी दी गई थी।

Next Stories
1 जयललिता की मौत मामले में ट्विस्ट: 21 मेडिकल एक्सपर्ट का पैनल बनाने की अपोलो अस्पताल की मांग
2 वेदांता के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को सिर, छाती में पीछे से मारी गई गोलियां, अटॉप्‍सी में खुलासा
3 कमल हासन ने किया ऐलान- जरूर लड़ूंगा 2019 लोकसभा चुनाव
ये पढ़ा क्या?
X