ताज़ा खबर
 

बंधुआ मजदूरी की कैद से आजाद कराए काशी को सता रहा डर, बताई पूरी दास्तान

एक गुप्त सूचना के बाद कांचीपुरम के सब कलेक्‍टर ए सर्वनन और रानीपेट के सब कलेक्टर इलमभवथ ने एक ही समय पर दोनों ठिकानों पर छापेमारी कर इन लोगों को बंधुरा मजदूरी के जुल्म से आजाद कराया।

kasi70 वर्षीय बुजुर्ग उस वक्त राजस्व अधिकारियों के चरणों में गिर गए जब वे कांचीपुरम में लकड़ी काटने की इकाई में पहुंचे। (Express photo by Jerusha Venkatarangam)

तमिलनाडु के कांचीपुरम में सालों बाद बंधुआ मजदूरी की कैद से आजाद कराए गए काशी अभी भी डर के साए में हैं। काशी को जिन लोगों ने बीस हजार रुपए के कर्ज के बदले सालों तक कैद में रखा उन्होंने मारने की धमकी दी थी। कांचीपुरम के पास पेरियारकुम्बुर गांव के निवासी काशी ने अपनी आपबीती सुनाते हुए बताया, ‘राजस्व अधिकारियों ने हमें आजाद कराने के बाद देर रात घर पर छोड़ दिया। उन्होंने हमें दस किलो चावल, एक धोती और एक साड़ी भी दी। मगर कल रात ही मालिक के करीबी हमारे घर आए और धमकी दी। हमें डरे हुए हैं कि वो हमें बाद में नुकसान पहुंचाएंगे।’

70 वर्षीय काशी उस वक्त मीडिया की सुर्खियों में आए जब एक अंग्रेजी अखबार ने उनकी तस्वीर छापी, जिसमें वह राजस्व अधिकारियों के पैरों पर गिरे हुए हैं। राजस्व अधिकारी एक खुफिया सूचना के आधार पर लकड़ी की कारखाने में पहुंचे और दर्जनों बंधुआ मजदूरों को आजाद कराया। हालांकि एसटी इरुला समुदाय के काशी और अन्य मजदूरों को अभी तक रिलीज सर्टिफिकेट नहीं दिया गया है। यह सर्टिफिकेट मालिक के कर्ज को रद्द करते हैं और बचाए गए लोगों को केंद्रीय और राज्य सरकारों की योजनाओं का लाभार्थी बनाते हैं। इसके अलावा इन लोगों को बीस हजार रुपए की सहायता भी दी जाती है। काशी ने बताया, ‘बीस हजार के कर्ज के बदले मैं नटराजन के यहां पांच साल से भी ज्यादा वक्त से काम कर रहा हूं। मैंने उससे यह रकम उधार ली थी।’

मामले में काशी के एक पड़ोसी ने बताया, ‘मालिक अभी फरार नहीं है। वह खुद आया था और बीती रात हमें धमकी दी।’ बता दें कि बुधवार को राजस्व अधिकारियों ने कांचीपुरम और वेल्लूर जिलों में लकड़ी के कारखाने की अलग-अलग यूनिट से 42 लोगों को बंधुआ मजदूरी की गुलामी से आजाद कराया था। इनमें से अधिकतर लोग पेरियाकरुम्बुर गांव के निवासी है। एक गुप्त सूचना के बाद कांचीपुरम के सब कलेक्‍टर ए सर्वनन और रानीपेट के सब कलेक्टर इलमभवथ ने एक ही समय पर दोनों ठिकानों पर छापेमारी कर इन लोगों को बंधुरा मजदूरी के जुल्म से आजाद कराया। आजाद के कराए 14 लोगों को रिलीज सर्टिफिकेट बुधवार को दे दिया गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तमिलनाडु: 16 बच्चों समेत 42 लोगों को बनाया बंधुआ मजदूर, प्रशासन ने गुप्त अभियान चलाकर बचाया, 9000 रुपए के बदले सालों से कर रहे थे गुलामी
2 12 आईटी कंपनियों में पानी की किल्लत, 5,000 कर्मचारियों को निर्देश- घर से काम करिए
ये पढ़ा क्या?
X