ताज़ा खबर
 

पीएम नरेंद्र मोदी को भिजवाए सैनिटरी नैपकिन्स

जीएसटी लागू करने के बाद सैनेटरी नैपकिन्स पर 12 प्रतिशत टैक्स दिया जाएगा जो कि पहले पांच प्रतिशत टैक्स दिया जाता था।
Author कोयम्बटूर | July 23, 2017 14:00 pm
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

सैनेटरी नैपकिन्स पर जीएसटी लागू करने के बाद 12 प्रतिशत टैक्स लगाए जाने का देशभर की महिलाएं विरोध कर रही है। वहीं इसके खिलाफ तमिलनाडू के कोयम्बटूर के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने एक यूथ रेवोल्यूशनरी मूवमेंट छेड़ दिया है। विरोध जताने का एक नया तरीका अपनाते हुए इन कार्यकर्ताओं ने न केवल केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के घर सैनेटरी नैपकिन्स भिजवा दिए। बता दें कि 30 जून को देश में जीएसटी लागू करने के बाद सैनेटरी नैपकिन्स पर 12 प्रतिशत टैक्स दिया जाएगा जो कि पहले पांच प्रतिशत टैक्स दिया जाता था।

इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट में 12 प्रतिशत टैक्स को लेकर एक याचिका दी गई थी, जिसके बाद कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से इस पर जवाब मांगा था। यह याचिका जेएनयू की एक पीएचडी स्कॉलर ज़रमीना इसरार खान ने डाली थी। याचिका में कहा गया था कि सैनेटरी नैपकिन्स पर इतना टैक्स लगाकर महिलाओं के साथ भेदभाव किया जा रहा है और यह गैरकानूनी व्यवहार है। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरी शंकर की बेंच ने सरकार से इस मामले को 15 नवंबर तक सुलझाने के लिए कहा है। याचिकाकर्ती खान के वकील अमिल जॉर्ज ने कोर्ट में कहा था कि सैनेटरी नैपकिन्स महिलाओं के सम्मान और आजादी के लिए बहुत जरूरी है। इनसे महिलाओं की सेहत भी जुड़ी है।

इस याचिका में कहा गया है कि नैपकिन्स पर या तो कोई टैक्स न लिया जाए या फिर इसे कम किया जाए। जीएसटी लागू होने के बाद मैकअप, प्लास्टिक, कांच की चूड़ियां, धार्मिक चीजों में इस्तेमाल की जानी वाली चीजों के साथ-साथ कई सामान महंगे हुए है। बता दें कि जीएसटी का कई व्यापारी विरोध कर रहे है। बीजेपी) शासित राज्य गुजरात में केंद्र की बीजेपी सरकार द्वारा लगाए गए जीएसटी का विरोध हो रहा है। विरोध प्रदर्शनों के अलावा अन्य रचनात्मक तरीकों से भी व्यापारी इसका विरोध कर रहे हैं। कपड़ा व्यापारियों ने जीएसटी के विरोध में एक काव्य सम्मेलन का आयोजन किया था

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.