ताज़ा खबर
 

चेन्नई: जलीकट्टू के समर्थन में मरीना बीच पर उतारी हजारों की भीड़, राज्य भर में विरोध प्रदर्शन

पूरे दिन ये छात्र अपनी मांग को लेकर मरीना बीच पर डटे रहे।

प्रदर्शन के दौरान मरीन बीच पर मौजूद छात्रों का समूह।

तमिलनाडु में सांडों पर काबू पाने के प्राचीन और लोकप्रिय खेल जलीकट्टू के आयोजन पर लगी रोक पर विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है। कोर्ट में इस आयोजन पर प्रतिबंध लगवाले वाले पशु अधिकार अधिकार संगठन ‘पेटा’ पर ही प्रतिबंध की मांग को लेकर हजारों युवा राज्यभर में प्रदर्शन कर रहे हैं। चेन्नेई के एसआरएम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने उनके समर्थन में अपने संस्थान के बाहर प्रदर्शन करने की घोषणा की है। वहीं, चेन्नेई के मरीना बीच पर बुधवार को हजारों लोग इकट्ठे हो गए। इनमें अधिकतर छात्र और युवा हैं। पूरे दिन ये छात्र अपनी मांग को लेकर मरीन बिच पर डटे रहे। राज्य में कई जगह ये प्रदर्शन बेहद उग्र भी हो गए हैं। ट्विटर पर भी ये मद्दा बुधवार शाम छाया रहा। कई लोगों ने जलीकट्टू के समर्थन में ट्वीट किए।

इससे पहले इस विवाद में तमलि एक्टर ने जलीकट्टू के समर्थन में अपनी बात रखी।  पारंपरिक खेल जलीकट्टू की तमिल सिनेमा के लिए काफी अहम भी रहा है। इस खेल के जरिए अभिनेता की ताकत और साहस को दर्शाने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। जलीकट्टू खेल के समर्थन में एक्टर धुनष ट्विट करते हुए कहा कि जलीकट्टू तमिल संस्कृति का अहम हिस्सा रहा है। वहीं एक्टर कमल हासन ने स्पेन में होने वाली बुल फाइटिंग के बिल्कुल अलग है। जलीकट्टू में बैलों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया जाता बल्कि तमिलनाडु में उन्हें भगवान की तरह पूजा जाता है। इस खेल में बैलों को काबू किया जाता है उन्हें किसी तरह शारीरिक नुकसान नहीं पहुंचाया जाता, न ही उनके सिंग तोड़े जाते और न अन्य कोई अंग।

अभिनेता सूर्या ने भी जलीकट्टू का मुद्दा उठाते हुए कहा कि बैलों की प्रजाति में लगातार गिरावट आ रही है। उन्होंने सवाल उठाया कि लुप्त होती प्रजाति को संरक्षति रखने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं। बैलों की कुछ प्रजातियां लुप्त हो रही है। बैल हमारी संस्कृति और पहचान का हिस्सा है। कुछ नियम बनाए जा सकते हैं लेकिन खेल को खत्म नहीं किया जाना चाहिए ।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जल्लीकट्टू पर बैन: तमिलनाडु के मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों से कहा, राष्ट्रपति से अध्यादेश की मांग करेंगे
2 जल्लीकट्टू प्रदर्शन: मद्रास हाई कोर्ट का दख़ल से इनकार, कहा- मामला पहले ही सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है
3 जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध के खिलाफ़ द्रमुक का प्रदर्शन, पीएम नरेंद्र मोदी पर बरसे स्टालिन
ये पढ़ा क्या?
X