ताज़ा खबर
 

जल्लीकट्टू पर बैन: तमिलनाडु के मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों से कहा, राष्ट्रपति से अध्यादेश की मांग करेंगे

प्रदर्शनकारियों की मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम से आश्वासन की मांग पर स्कूल शिक्षा मंत्री पांड्याराजन ने कहा कि सरकार कोई मौखिक आश्वासन नहीं दे सकती है

Author चेन्नई | January 18, 2017 4:04 PM
तमिलनाडु के मदुरै में हजारों की संख्या में केंद्र सरकार से जल्लीकट्टू पर से प्रतिबंध उठाने की मांग करते प्रदर्शनकारी। (PTI Photo/18 Jan, 2017)

तमिलनाडु में जल्लीकट्टू के समर्थकों की ओर से किए जा रहे प्रदर्शनों के जोर पकड़ने और रात भर युवाओं के एक समूह द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन के बीच राज्य सरकार ने बुधवार (18 जनवरी) को प्रदर्शनकारियों से बातचीत की है और राज्य में सांडों को काबू में करने से जुड़े इस खेल को आयोजित करवाने की अपनी प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया है। सरकार ने युवाओं से कहा है कि वह इस मामले पर राष्ट्रपति से संपर्क करके उनसे अध्यादेश लाने की मांग करेंगे। राज्य मत्स्य पालन मंत्री डी जयकुमार ने मंत्रीमंडल में अपने सहयोगी के पांड्याराजन के साथ मिलकर प्रदर्शन कर रहे युवकों के प्रतिनिधियों से आज (बुधवार, 18 जनवरी) तड़के बातचीत की। उनका कहना था कि लोकसभा में अन्नाद्रमुक के 50 लोकसभा और राज्यसभा सांसद जल्लीकट्टू के संचालन के लिए केंद्र पर आवश्यक दबाव डालेंगे।

जयकुमार ने कहा, ‘सिर्फ यही नहीं, सरकार राष्ट्रपति से मिलने के लिए भी कदम उठाएगी और उनसे अध्यादेश की मांग करेगी।’ प्रदर्शनकारियों की मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम से आश्वासन की मांग पर स्कूल शिक्षा मंत्री पांड्याराजन ने कहा कि सरकार कोई मौखिक आश्वासन नहीं दे सकती है। मंत्री ने इस बात का इशारा किया कि मुख्यमंत्री बुधवार (18 जनवरी) को इस मुद्दे पर बयान जारी कर सकते हैं। मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने की अपील की है। प्रदर्शनकारियों का दावा है कि आंदोलन में और भी लोग शामिल होंगे।

चैन्नई: जल्लीकट्टु पर लगे बैन का विरोध करने के लिए मरीना बीच पर एकत्र हुए लोग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App